latest raibareli news

उत्तर प्रदेश में शनिवार देर शाम मौसम ने एकाएक करवट बदल ली। तेज आंधी-तूफ़ान के बाद हुई बारिश में जहां लोगों को थोड़ी राहत मिली वहीं जिले में दो की मौत हो गई जबकि कई लोंगो के भी घायल होने की ख़बर है।

जान लेने वालों से जान बचाने वाला बड़ा होता है। शनिवार को रायबरेली जिले में ये कहावत एक बार फिर चरितार्थ हुई। यूपी पुलिस के दो जवानों ने घर वालों की फटकार से नाराज किशोरी को नदी में डूबने से बचा लिया।

सैकड़ों की संख्या में एकत्र इन छुट्टा गौवंशो को गौर से देखिए ये कही तबेले व गौशालाओं में नही बल्कि एक प्राथमिक विद्यालय में है। इनको यहां किसी और ने नही बल्कि उन नाराज किसानों ने पहुंचाया  और बंधक बनाया जो अपने फसलें नष्ट होने से परेशान चल रहे थे।

योजना का शुभारंभ करने के बाद उन्होंने कहा ‘‘लेखपालों को डिजिटल बनाना उप्र सरकार का मकसद है। सरकार चाहती है कि जनता की समस्या का शीघ्र समाधान हो इसके लिए अमेठी के लेखपालों को डिजिटल प्रशिक्षण दिया जायेगा ।’’

नसीराबाद थाना क्षेत्र के ग्राम पूरे पासिन मजरे संडहा निवासी वीरेन्द्र कुमार सरोज की पुत्री संगीता सरोज की शव गांव से बाहर पेड़ की डाल से लटकी मिला तो इलाके में हड़कंप मच गया। सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण मौक़े पर पहुंच गये। सूचना पाकर नसीराबाद थाने की पुलिस भी मौक़े पर पहुंची और लाश को पेड़ से उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

डलमऊ कस्बे में भीषण गर्मी के चलते गंगा नदी का जलस्तर कम हो जाने पर कैनाल पंप बंद कर दिया गयाा है। जिससे कैनाल पंप गंग नहर में सैकड़ों कुंटल मछलियां मर गई हैं। इतनी बड़ी संख्या में मछलियों के मर जाने से क्षेत्र में महामारी फैलने का ख़तरा बढ़ गया है।

रायबरेली स्थित कान्हा गोवंश विहार की यह घटना अधिकारियों की लापरवाही की पोल खोल रही है। जहां पर कई दिनों से जानवरों को पानी और खाना नहीं दिया गया और जब यह सूचना आसपास के लोगों तक पहुंची तो रायबरेली जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया।

रायबरेली जिला पंचायत अध्यक्ष अविश्वास प्रस्ताव को लेकर विगत 14 मई को NH24B पर लखनऊ प्रयागराज राष्ट्रीय राजमार्ग पर चुरूआ टोल प्लाजा से लेकर रायबरेली शहर तक जबरदस्त तांडव किया गया।

योगी ने जनता से पूछा कि राहुल कभी किसी की विपत्ति में कहीं गए नही, चुनाव में नौटंकी करते हैं, घर घर जाकर भावनात्मक संबंध बनाते हैं, उसके बाद पांच वर्ष दिखाई नही देते। वो आपको नही पहचानते तो आप क्यों पहचानते हैं उनको चुनाव में।

अमेठी जिले के तिलोई तहसील क्षेत्र में भिलाई खुर्द मजरे हसवा के रहने वाले जितेंद्र कुमार श्रीवास्तव और कंचन के छोटे पुत्र और बड़ी होनहार बेटी सुनिधि वसुंधरा ने बुआ के घर रहकर विबग्योर पब्लिक इंटर कॉलेज से हाई स्कूल की परीक्षा दिया था। सुनिधि के पिता तिलोई क्षेत्र में अपना निजी विद्यालय चलाते हैं।