lok sabha election 2019

श्यामल ने कहा, 'हो भी क्यों ना। इस बार के चुनाव में राजनीतिक बयानबाजी और आरोप-प्रत्यारोप का नया स्वरूप नजर आया, जिसमें बुआ-बबुआ से लेकर चौकीदार और चाय वाला, नामदार और शहजादी तक ना जाने क्या क्या कहा गया। विश्वास, हमला, निशाना, व्यंग्य, ताना, विवाद के इन तमाम रंगों को कार्टूनों ने नयी दिशा देकर राजनीतिक उत्सव को आकर्षक ही नहीं बनाया बल्कि जो तल्खी पैदा हो गयी थी, उसे कम करने में भी अहम भूमिका निभायी।'

राज बब्बर को इस लोकसभा चुनाव में केवल उनके क्षेत्र तक ही सीमित रखा गया हैं। एक तरह से यहभी कह सकते हैं कि कांग्रेस ने इनको चुनावी मैदान में उतार कर इनको अपने क्षेत्र तक ही सीमित रखा है।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के चुनाव में अब तक के हुए छह चरणों के चुनाव के बाद सबसे अधिक आपरधिक पृष्ठभूमि के प्रत्याशी सामने आएं हैं। इस बार इस क्षेत्र के आपराशिक प्रत्याशियों की सख्या पिछले बार से अधिक है।

जिले की सात में से पाँच विधान सभा क्षेत्रों को मिलाकर बने 65 - कुशीनगर संसदीय सीट के लिए आखिरी चरण यानि 19 मई को मतदान होना है । इस कारण चुनावी घमासान अब जोरों पर है ।

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को वह याचिका खारिज कर दी जिसमें आग्रह किया गया था कि निर्वाचन आयोग को लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के लिए मतदान सुबह सात बजे की जगह सुबह साढ़े पांच बजे शुरू करने का निर्देश दिया जाना चाहिए।

मीडिया को जारी पत्र में अतीक ने पेरोल न मिलने को चुनाव मैदान से हटने का कारण बताया है।अतीक अहमद ने यह भी कहा है कि वह किसी भी प्रत्याशी का समर्थन नहीं करेंगे।

6 वें चरण का मतदान खत्म होने के बाद अब 7 वे चरण के चुनाव में सभी पार्टियां ताकत झोंकने काम शुरू कर दिया है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सीट से इस बार फिल्म अभिनेता रवि किशन को इस बार बीजेपी से प्रत्याशी बनाया गया है।

अंतिम चरण के चुनाव में मात्र सात दिन शेष रह गये है। मनोज सिन्हा के सर्मथन में ग्यारह मई को गाजीपुर के आरटीआई मैदान में जनसभा भी थी। लेकिन प्रधानमंत्री के जनसभा में राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंच पर नहीं दिखे।

उन्होंने कहा कि भाजपा अल्पसंख्यक समाज को प्रेम व भाईचारा से जोड़ना चाहती है। अपने गृह जनपद में गृहमंत्री ने भोजपुरी में लोगों का हालचाल लेकर प्रधानमंत्री के नेतृत्व कौशल और सरकार के उपलब्धियों का बखान किया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को सपा—बसपा महागठबंधन पर प्रहार करते हुए कहा कि भाजपा सरकार में लूटपाट पर अंकुश लग जाने के कारण ही इन दोनों पार्टियों ने गठबंधन किया है।