maa durga

नवरात्र में माँ की आराधना के लिये मंदिरों में भक्तों की कतार तो लगी ही रहती हैं। वहीं प्रदेश में एक मंदिर ऐसा भी हैं, जो सिर्फ नवरात्र के आखिरी तीन दिन ही खुलता हैं। 

देश में नवरात्र के पर्व का काफी महात्म्य माना जाता है। देश के लगभग हर हिस्से में इस दौरान लोग पूरी तरह भक्ति भाव में डूब जाते हैं। कई लोग तो इस दौरान नौ दिन का व्रत भी करते हैं और मां की आराधना में लीन रहते हैं। मां के नौ रूपों की उपासना का …

जयपुर:शारदीय नवरात्र इस साल 10 अक्टूबर से शुरू हो रहे हैं। अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से शारदीय नवरात्रि की शुरुआत होती है। नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। पहले दिन मां शैलपुत्री पूजा, दूसरे दिन ब्रह्मचारिणी पूजा, तीसरे दिन चंद्रघंटा पूजा, चौथे दिन कुष्मांडा …

जयपुर: अष्टमी और नवमी के व्रत के साथ ही नवरात्र का समापन होता है। इस दिन व्रत के साथ ही कलश विसर्जन का काम भी होता है। यह कार्य सभी को विधि विधान के साथ करना चाहिए। इससे मां भगवती का आशीर्वाद आपको प्राप्त होगा। घर में सुख शांति और समृद्धि होगी। यह भी पढ़ें…ये पोटली …

लखनऊ:   देवी दुर्गा वैसे तो अनेकों स्वरुप और नामों से जानी जाती है, लेकिन जब भगवान शंकर मां पार्वती को अपनी तंत्र शक्तियां प्रदान कर रहे थे तो भगवान शंकर ने भी  देवी के 108 नाम यानि अष्टोत्तर शतनाम से मां आदिशक्ति की अराधाना की। भगवान शंकर ने इस अष्टशत्तोर शतनाम की फलश्रुति बताते हुए कहा- …

लखनऊ: नवरात्रि का त्योहार नौ दिनों तक चलता है जिसमें देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। 10 वां दिन विजयादशमी या  दशहरे के रूप में मनाया जाता है। पहले हमें यह देखना पड़ता है कि नवरात्रि किस दिन से शुरू हो रही हैं। इसके आधार पर ही हर साल नवरात्रि के पहले …

बलरामपुर: बलरामपुर से 28 किलोमीटर की दूरी पर तुलसीपुर क्षेत्र में स्थित 51 शक्तिपीठ में एक शक्तिपीठ देवीपाटन का अपना एक अलग ही स्थान है। अपनी मान्यताओं और पौराणिक कथाओं के आधार पर जाना जाने वाले इस शक्तिपीठ का संबंध देवी सती, भगवान शंकर, गोखक्षनाथ के पीठाधीश्वर गोरक्षनाथ जी महराज सहित दान वीर कर्ण से …

कानपुर: जंगली देवी मंदिर की मूर्ति के पीछे बनी नाली में ईंट रखने के बाद उस ईंट को निर्माणाधीन मकान में लगाने से दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की होती है, ऐसी है जंगली देवी मंदिर की मान्यता। साथ ही जो भी भक्त पूरी श्रद्धा के साथ माता के चेहरे को निहारता है,धीरे-धीरे माता की प्रतिमा …

रांची : सूबे की राजधानी रांची से लगभग 80 किलोमीटर दूर रजरप्पा स्थित छिन्नमस्तिके मंदिर शक्तिपीठ के रूप में जाना जाता है। यहां भक्त बिना सिर वाली मां की पूजा करते हैं। मान्यता है कि कामाख्या मंदिर के बाद रजरप्पा स्थित मां छिन्नमस्तिके मंदिर सबसे बड़ा शक्तिपीठ है। रजरप्पा के भैरवी-भेड़ा और दामोदर नदी के …

इलाहाबाद: मां शैल पुत्री की अराधाना के साथ आज से चैत्र नवरात्रि की शरुआत हो गई। नव दिन मां दुर्गा के अलग-अलग नव रूपों का भक्त दर्शन कर उनकी पूजा-आराधना करेंगे और मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए प्रार्थना करेंगे। इस बार चैत्र नवरात्रि का एक दिन कम हुआ, तिथियों और नक्षत्रों के अनुसार इस वर्ष …