maharashtra

तमाम विवादों के लगभग एक महीने बाद महाराष्ट्र में शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने एनसीपी की समर्थन वाली सरकार का शपथ ग्रहण कर सीएम की कुर्सी का पदभार संभाला।

महाराष्ट्र की राजनीति में लगभग महीने भर की लम्बी उठा-पटक के बाद आखिरकार शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है, उन्होंने मुंबई के ऐतिहासिक शिवाजी पार्क में शाम 6 बजकर 40 मिनट पर शपथ ली।

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद की शपथ से ठीक पहले शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस का कॉमन मिनिमम प्रोग्राम(CMP)का ऐलान कर दिया गया है। इस कार्यक्रम में सरकार के कामकाज के खाके के बारे में जानकारी दी गई है।

महाराष्ट्र में गुरुवार को नई सरकार का गठन होने जा रहा है। एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना की गठबंधन सरकार के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे शाम को शपथ लेंगे। उद्धव ठाकरे परिवार के ऐसे पहले सदस्य हैं, जो कोई पदभार संभालेंगे।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को शपथ ग्रहण से पहले बधाई देते हुए कहा कि ऐसे वक्त में जब बीजेपी हर तरफ भय का माहौल फैला रही है तब शिवसेना, कांग्रेस, एनसीपी का साथ एक बड़ा कदम है।

मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचने के लिए शिवसेना को बहुत पापड़ बेलने पड़े। कांग्रेस, एनसीपी, भाजपा, मुस्लिम लीग सबके साथ जुड़ने और टूटने का रिश्ता बनाना पड़ा। बाल ठाकरे के बेटे उद्धव ठाकरे कांग्रेस और एनसीपी के सहयोग से मुख्यमंत्री बनेंगे।

महाराष्ट्र में अब एक नए राजनीतिक युग की शुरुआत होने जारी रही है। अभी तक पर्दे के पीछे से सत्ता चलाने वाला ठाकरे परिवार अब फ्रंटफुट पर आ गया है। उद्धव ठाकरे गुरुवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस का गठबंधन सरकार बनाने की तैयारी कर रहा है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे गुरुवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। इससे पहले बीजेपी ने शरद पवार के भतीजे के साथ मिलकर सरकार बनाई थी।

अखिलेश ने अपने कटाक्ष करते हुए अपने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट करके भाजपा और महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का नाम लिए बगैर के जरिए उन्हें कठघरें में खड़ा करा।