Malnutrition children

संस्था के अध्यक्ष ने बताया कि यह कार्यक्रम चिन्हित स्थानों पर प्रत्येक माहकेदूसरे और चौथे रविवार को करने का संकल्प संस्था के पदाधिकारियों ने लिया है।

जिले में कोरोना संक्रमण कुपोषित बच्चों पर कहर बनकर टूटने का भयावह खतरा है। इसका प्रमुख कारण है कि कुपोषित बच्चों में रोग प्रति रोधक क्षमता कम होती है। कोरोना, रोग प्रतिरोधक की कमी वालों के लिए मौत का परकाला माना जाता है।