Maulana Saad

बड़ी खबर आ रही है तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद जिसको दिल्ली पुलिस काफी दिनों से तलाश रही थी, पर पुलिस को कोई कामयाबी नहीं मिली हुई।

24 फरवरी को उत्तर पूर्वी दिल्ली के शिव विहार इलाके में राजधानी पब्लिक स्कूल में हुए दंगे के मामले को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। ये खुलासा दिल्ली पुलिस की एसआईटी ने बुधवार को चार्जशीट पेश करते हुए किया।

दिल्ली से एक बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि तबलीगी जमात मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने मरकज के मुखिया मौलाना साद के 5 करीबियों के पासपोर्ट जब्त कर लिए हैं। उन पर पहले से ही मुकदमा दर्ज है। 

तब्लीगी जमात के मुखिया मौलाना साद पर दर्ज मुकदमों की जांच कर रही दिल्ली क्राइम ब्रांच टीम के इंचार्ज के कोरोना पाजेटिव पाये जाने से शामली पुलिस तक में हड़कंप मच गया है।

तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद को लेकर बड़ा वाकया सामने आया है, वैसे तो कोरोना वायरस के दौर में इन्होंन नकारात्मकता की अहम भूमिका निभाई है, ऐसे में अब मौलाना साद के ससुर का दोबारा टेस्ट हुआ है।

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से फूटा कोरोना विस्फोट पूरे देश के लिए घातक बन गया। मामले में पुलिस प्रशासन लगातार तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों की तलाश कर उनके सैम्पल जांच के लिए भेज कर क्वारंटीन कर रहे हैं।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के जमात वाले सभी बैंक अकाउंट को लेकर बड़ी कार्रवाई की है। बैंक ऑफ इंडिया की (लाल कुआं ब्रांच) को सभी अकाउंट सीज करने को कहा है।

तबलीगी मरकज के मुखिया मौलाना साद पर क्राइम ब्रांच का शिकंजा लगातार कसता जा रहा है। क्राइम ब्रांच की टीम मरकज की सारी गतिविधियां और उसके बैंक खातों से हुए आर्थिक लेनदेन की गहराई से पड़ताल करने में जुटी है।

क्राइम ब्रांच को साद की रिपोर्ट पर भरोसा नहीं है। उन्होंने मौलाना साद को सलाह दी कि एम्स से अपनी कोरोना जांच कराकर रिपोर्ट सौंपे। अगर एम्स से नहीं तो आरएमएल या सफदरजंग अस्पताल में जांच करा सकते हैं। उसके बाद ही आगे कार्रवाई की जाएगी।

पूरे देश में महामारी का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। आंकड़े एक भी दिन थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। बताया जा रहा हैै कि देशभर में कई जगहों पर तबलीगी जमातियों की वजह से आंकड़ा इतनी तेजी से बढ़ रहा है।