mulayam singh

मेदांता अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि मुलायम सिंह यादव को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी, जिसके बाद उन्हें यहां लाया गया। उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

अपर्णा को शुरू से ही योगी सरकार के काफी करीबी माना जाता है। अपर्णा इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाक़ात भी कर चुकी हैं।

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के सीनियर नेता मुलायम सिंह यादव को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। बुधवार को अचानक तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें संजय गांधी पीजीआई में भर्ती कराया गया।

मुस्लिम पक्ष जमीन पर दावा साबित करने में नाकाम रहा है। मुस्लिमों(सुन्नी वक्फ बोर्ड) को दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन दी जाए। विवादित जमीन रामलला की है।

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मंगलवार को समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव पर बड़ा हमला किया। उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह यादव के आजम खां का बचाव करने से साबित होता है कि आजम खां ने अपने तमाम घपलें घोटालों को अंजाम दिया।

बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट करके कहा है कि आगे सभी चुनाव पार्टी अकेले लड़ेगी। समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने अपना रुख साफ कर दिया है।

79 वर्षीय यादव को रक्त शर्करा का स्तर बढ़ने के बाद नियमित जांच के लिए रविवार को लखनऊ के राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया था। उन्हें कुछ घंटों के भीतर छुट्टी दे दी गई थी।

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अपने पैतृक गांव सैफई में अखिलेश यादव और शिवपाल की मुलाकात कराई थी। मुलाकात के दौरान मुलायम ने शिवपाल के सामने प्रस्ताव रखा था कि वह अपनी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का समाजवादी पार्टी में विलय कर दे लेकिन शिवपाल ने इससे साफ इनकार कर दिया।

यूपी विधान सभा में गुरुवार को गत दिवस लोकसभा में समाजवादी पार्टी सरंक्षक मुलायम सिंह यादव द्वार नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाये जाने के वक्तव्य पर सत्ता पक्ष और मुख्य विपक्षी दल सपा के बीच खूब छींटाकसी हुई। जहां सत्ता पक्ष मुलायम के इस बयान को स्वागत योग्य बताने की कोशिश की। वहीं सपा सदस्यों ने इसे मुलायम सिंह की राजनीतिक कुशलता बताकर मामले को दबाने की कोशिश की।