nirbhaya gang rape

आखिरकार साढ़े 7 साल बाद देश की निर्भया को न्याय मिल गया। आज सुबह 5.30 बजे तिहाड़ जेल में चारों दोषियों को फांसी दे दी गई। इससे पहले दोषियों के वकील एपी सिंह ने आखिरी वक्त तक दोषियों को फांसी से बचाने की कोशिश की। देर रात सुप्रीम कोर्ट ने उनकी सभी दलीलों को खारिज कर दी, जिसके बाद चारों दोषियों के फांसी का रास्ता साफ हो गया। और एक बार फिर साबित हो गया, 'अन्याय पर न्याय की विजय' देर से ही सही मगर होती जरूर है।

निर्भया गैंगरेप मामले में एक ओर दोषियों को 1 फरवरी को फांसी दी जानी है, जिसे लेकर जेल प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं, तो वहीं सजा से बचने के लिए दोषियों के दांव पेंच जारी है।

सात साल पहले निर्भया के साथ जिस बस में बर्बरतापूर्वक दुष्कर्म हुआ था, यह बस किसी दिनेश यादव नाम के शख्स की थी। वह बस दिनेश को कभी वापस तो नहीं मिली, लेकिन उस रात के बाद बस भी कभी नहीं चली। आज सात साल बाद उस बस को देखने पर ऐसा लगता है मानो वह खुद निर्भया के साथ हुए हादसे की कहानी को चीख-चीख कर दुनिया को बता रही हो।

शुक्रवार को पटियाला हाउस कोर्ट में निर्भया के माता-पिता की याचिका पर सुनवाई टाल दी गई। अगली सुनवाई 18 दिसंबर को होगी। आपको बता दें कि 17 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट में दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई होनी है।

निर्भया गैंगरेप के आरोपी विनय शर्मा को रविवार देर रात तिहाड़ जेल में शिफ्ट किया गया। इसके पहले वह मंडोली जेल में बंद था। देने वाली बात यह है कि तिहाड़ में बाकी तीनों आरोपी मुकेश, पवन और अक्षय बंद हैं।

निर्भया गैंगरेप के केस में दोषी विनय शर्मा ने अपनी दया याचिका वापस लेने की मांग की है। दोषी ने कहा है कि गृह मंत्रालय द्वारा राष्ट्रपति को जो दया याचिका की फाइल भेजी गई है, उस पर उसके हस्तक्षार नहीं है और न ही उसकी ओर से ऑथोराइज्ड है।

नई दिल्ली: पूरे भारत को साल 2012 में झकझोर कर देने वाली घटना निर्भया गैंगरेप को शायद ही कोई भूल ही पाया होगा। वैसे तो कई बार इस घटना से जुड़ी बातों ने देश में हलचल मचाई है, लेकिन इस बार इस परिवार से जुडी एक खबर राजीतिक गलियारों में चर्चा का मुद्दा है। जल्द …

नई दिल्ली: निर्भया गैंगरेप के दोषी विनय शर्मा ने बुधवार रात तिहाड़ जेल में सुसाइड की कोशिश की। बताया जा रहा है कि उसने पहले कुछ दवाएं खाईं और फिर गले में गमछा डालकर जान देने की कोशिश की। उसे गंभीर हालत में हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। वह जेल नंबर 8 में बंद …