onion

आसमान छू रहे प्याज की कीमतों पर काबू पाने के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने बैठक बुलाई। बता दें कि पिछले दो माह से देश में लगातार प्याज के भाव बढ़ रहे थे। दरअसल, केन्द्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह की अगुवाई में उच्च स्तरीय बैठक बुलाई।

बांग्लादेश में प्याज की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुकी है। कभी 25 रुपए प्रति किलो बिकने वाला प्याज अब 220 रूपए प्रति कोल प्याज बिक रहा है। बांग्लादेश सरकार को प्याज आयात करना पड़ रहा है। कीमतें आसमान पर पहुंचने की वजह से लोगों की थाली से प्याज करीब-करीब गायब हो चुकी है।

प्याज की बढ़ी कीमतों से जनता परेशान हैं, तो वहीं इसकी बढ़ती कीमतों को लेकर अब केंद्र सरकार भी सक्रिय हो गई है। प्याज की बढ़ती कीमतो पर केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने बुधवार को सचिवों के साथ बैठक की।

प्याज एक ऐसी चीज है जिसका हर सब्जी में इस्तेमाल किया जाता है। चाहें हम वेज बनाए या नॉन-वेज लगभग हर डिश में इसका इस्तेमाल होता है।

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने प्रदेश की जनता को प्याज कम कीमत पर उपलब्ध कराने हेतु प्रदेश के समस्त जनपदों में पर्याप्त प्याज विक्रय केन्द्र स्थापित कराकर प्याज की बिक्री कराने के निर्देश दिये हैं।

लगातार बढ़ रही प्याज की कीमतों के बीच केंद्र की मोदी सरकार ने तत्काल प्रभाव से प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्याज की बढ़ती कीमतों के बीच घरेलू बाजार में इसकी उपलब्धता बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया गया है।

प्याज सेब से भी ज्यादा महंगा हो गया है। जहां एक महीने पहले 100 रुपये तक बिकने वाला सेब अब 50 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा है, वहीं अप्रैल-मई में 15 से 20 रुपये तक बिकने वाला प्याज अब 80 रुपये किलो तक बिक रहा है।

राष्ट्रीय राजधानी और देश के अन्य हिस्सों में प्याज के खुदरा भाव की तो यहां भी 70 से 80 रुपये प्रति किलोग्राम की ऊंचाई पर पहुंच चुका है। ऐसे में केंद्र सरकार प्याज व्यापारियों के भंडारण की सीमा तय करने पर विचार कर रही है।

जयपुर:ठंड का मौसम शुरू होते ही जिस समस्या से लोग परेशान हो जाते हैं, वो होती है सर्दी-जुकाम की।जुकाम हुआ नहीं कि सिरदर्द, शरीर दर्द जैसी प्रॉब्लम्स भी शुरू हो जाती हैं. लोग जल्द राहत पाने के लिए दवाएं खाना शुरू कर देते हैं. पर  बता रहे हैं ऐसे काढ़े के बारे में, जो दवा …

जयपुर : रोजमर्रा के तमाम कामों को करते हुए कई बार ध्यान भटक जाता है जिससे हमें चोट लगने और जलने जैसी परेशानियां उठानी पड़ती हैं। व्हाइट ब्लड सेल्स की मदद से शरीर जले या कटे हुए घाव को तो जल्दी ही भर देता है, लेकिन इस चोट या जले हुए के निशान स्किन पर बने …