president donald trump

 इजरायल और यूएई के बीच कल यानी गुरुवार को एक ऐतिहासिक डील हुई। इस समझौते के तहत इजरायल और UAE के बीच कूटनीतिक संबंध स्थापित किया जाएगा।

व्हाइट हाउस के बाहर हालात बिगड़ने के बाद सुरक्षा अधिकारी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को एक खुफिर अंडरग्राउंड बंकर में लेकर चले गए। ट्रंप को वहां करीब एक घंटे तक रखा गया। इस बंकर के अलावा भी व्हाइट हाउस में कई सुरंगें हैं, जहां से इमरजेंसी में प्रेसिडेंस और उनकी फैमिली को बाहर निकाला जा सकता है।

कोरोना वायरस से इस समय अमेरिका सबसे ज्यादा बुरी तरह ग्रस्त है। अमेरिका का न्यूयॉर्क शहर इसका केंद्र बना है। कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या सिर्फ अमेरिका में ही 1,23,000 से ज्यादा हो गई है। जिनमें से 2,200 से ज्यादा लोगों की मौते हो चुकी है।

अमेरिका और ईरान के बीच तनाव चरम सीमा पर पहुंचता जा रहा है। अब इस बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से पीएम नरेंद्र मोदी ने फोन पर बातचीत की है।

इरान में कोम स्थित जानकरन मस्जिद के गुंबद पर आमतौर पर धार्मिक झंडे फहराए जाते हैं। ऐसे में धार्मिक झंडे को हटाकर लाल झंडा फहराने का मतलब युद्ध के एलान के रूप में लिया जा रहा है। क्योंकि लाल झंडे का मतलब दुख जताना नहीं होता है।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उत्तर कोरिया की सीमा में प्रवेश करने वाले अमेरिका के पहले राष्ट्रपति बन गए हैं। लेकिन इस खास दिन के मौके पर ही उत्तर कोरिया के सुरक्षागार्डों ने व्हाइट हाउस के प्रेस सेक्रेटरी स्टीफेन ग्रीशम के साथ बदसुलूकी की है। ये जानकारी फॉक्स न्यूज द्वारा दी गई है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने साल 2020 में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के लिये एक बार फिर अपना चुनावी अभियान मंगलवार को आरंभ किया। उन्होंने कम से कम 20,000 लोगों में जोश भरते हुए कहा कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था से दुनिया ‘‘ईर्ष्या’’ करती है और साथ ही उन्होंने चेताया कि विपक्षी डेमोक्रेट देश को ‘‘बर्बाद’’ करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया पर अमेरिका के पूर्व उप राष्ट्रपति जो बिडेन पर एक कार्यक्रम के जरिए किम उन्हें एक ‘‘संदेश’’दे रहे है। इस कार्यक्रम में पूर्व उप राष्ट्रपति बिडेन को किम की आलोचना करने के लिए बेहद कम ‘आई क्यू’ वाला ‘मूर्ख व्यक्ति’ बताया गया है।

ट्रम्प ने व्हाइट हाउस में अपने ओवल कार्यालय में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम देखेंगे कि ईरान के साथ क्या होता है। यदि वे कुछ करते हैं, तो यह उनकी भारी भूल होगी।’’

ट्रंप अमेरिकी उपग्रहों की रक्षा, अंतरिक्ष में संवेदनशीलता से निपटने और कक्षा में अमेरिका का प्रभुत्व स्थापित करने के लिए सेना की नयी शाखा स्थापित करने पर जोर दे रहे हैं।