religious news

दिन शनिवार, 31 अगस्त 2019,, तिथि प्रतिपदा , नक्षत्र पूर्वा फाल्गुनी,करण बव - 12:15:15 ,सूर्योदय 05:58,सूर्यास्त 18:44,प्रात:काल पवित्र स्नान के बाद व्यवसाय में सफलता की कामना के साथ देवी लक्ष्मी की आराधना करें.

रुद्राक्ष को अक्सर भगवान शिव की उपासना के लिए माना जाता है। रुद्राक्ष धारण करने से भगवान शिव प्रसन्न होते है ये सत्य है। लेकिन क्या आप ये जानते है कि बारह मुखी रुद्राक्ष भगवान विष्णु का स्वरूप माना जाता है।बारह मुखी रुद्राक्ष के देवता सूर्य हैं।

जयपुर: जीवन में जब हर तरह की सुख-सुविधा रहती है फिर भी सदस्यों के साथ अनबन हो तो इससे निपटने के लिए ज्योतिषीय उपाय करने की जरुरत है। अगर घर के सदस्यों में प्यार नहीं है पति-पत्नी में तकरार, भाई-भाई में क्लेश तो इससे निपटने के लिए कुछ उपाय करने की जरुरत है जिससे आपके …

हमारे धर्म ग्रंथों में देवियों के महात्मय का भी वर्णन  है। जिन्होंने अपने  पतियों के लिए हजारों साल तप किया तो उन्हें पति रुप में पाया है। मां पार्वती, माता सती, माता सीता सबने पति की सलामती के लिए कठोर तपस्या कर सतीत्व का वरदान पाया है।  ये तो हुई सतयुग की बातें, आज भी  महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए व्रत पूजा पाठ करती हैं।

वार- मंगलवार,  माह- भाद्रपद, पक्ष-कृष्ण, तिथि- एकादशी व द्वादशी, नक्षत्र-पुनर्वसु, योग- , सूर्योदय-5.56, सूर्यास्त- 18.48, चंद्र- मिथुन, अभिजित मुहूर्त- 11.56-12.48।

वार-सोमवार, माह-भाद्रपद, पक्ष-कृष्ण,तिथि- दशमी 07:04 तक फिर एकादशी,नक्षत्र-आद्रा,करण-विष्टि 07:03 सूर्य राशि-सिंह, अभिजीत-अभिजीत मुहूर्त -11:57 से 12:48 तक, राहुकाल-प्रातःकाल 07:30 बजे से 09 बजे तक

भाद्रपद,तिथि – नवमी ,पक्ष – कृष्ण, वार – रविवार, नक्षत्र – मृगशिरा ,सूर्योदय – 05:55,सूर्यास्त – 18:50। रविवार की सुबह क्या लेकर आएगा हम सब के लिए।

 हमारे घर की सकारात्मक ऊर्जा का हमारे जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। वास्तु के अनुसार घर की हर दिशा का अपना महत्व हैं और इन दिशाओं में स्थित निर्जीव वस्तुएं एक विशेष ऊर्जा रखती हैं जो व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करती हैं। इन्हीं में एक हैं घर के परदे।

इस दिन सभी भक्तगण भगवान कृष्ण की भक्ति में लीन होते हुए उनकी पूजा करते हैं और उन्हें कई पकवानों के भोग चढ़ाए जाते हैं। बाजारों में मिलावट के चलते सभी घर पर ही मिठाइयां बनाना पसंद करते हैं। इसलिए  घर पर ही गोंद की बर्फी कैसे बनाई जाए, वह बता रहे हैं।

सूर्योदय -05:55,सूर्यास्त-18:54,पक्ष-कृष्ण,तिथि: सप्तमी–अष्टमी,नक्षत्र कृत्तिका,राहुकाल10:48 - 12:24 , अभिजीत मुहूर्त 11:59 - 12:50 । 23 व 24 अगस्त को दो दिन जन्माष्टमी मनाई जाएगी। किन राशियो पर बरसेगी भगवान की कृपा जानते है।