religious news

नए साल की शुरुआत वाकई नए तरीके से होती है तो घर पुराना क्यों रखें। घर को भी नए तरीके से सजाकर फ्रेश लुक दे। घर पर पार्टी ऑर्गेनाइज की है और दोस्तों के साथ ही रिश्तेदारों को भी इंवाइट किया है, तब तो ये डेकोरेशन और भी खास होनी चाहिए। ताकि घर की पार्टी सभी लोग हमेशा-हमेशा याद करें

साल 2020 की शुरुआत बुधवार से हो रही है। कहने का मतलब कि 1 जनवरी इस साल बुधवार के दिन पड़ता है जो भगवान गणेश का दिन है। ये हमें बुद्धि व बल देते हैं। तो आज जानते हैं कि मेष,वृष व मिथुन में किसके लिए आने वाला साल सेहत, प्यार व रोजगार के लिए बढ़िया रहेगा।

साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लग चुका है। पौष की कृष्ण अमावस्या को सूर्य ग्रहण है। भारत समेत विश्व के अन्य देशों में यह ग्रहण दिखेगा। ग्रहण काल के दौरान कुछ चीजों को करने की मनाही होती है।

कोई भी ग्रहण हो वह शुभ कार्यों के लिए ठीक नहीं होता। पर यह भी सच है ग्रहण का प्रभाव अलग-अलग राशि के जातकों में अलग-अलग पड़ता है। ज्योतिष के अनुसार 26 दिसंबर को पड़ने वाला साल का आखिरी सूर्यग्रहण लोगों के लिए खुशियों के साथ दुखों को भी न्योता देने वाला है।यह ग्रहण भारत में दिखेगा।

25 दिंसम्बर क्रिसमस डे है। इस दिन लोगों में एक नया ही उत्साह देखने को मिलता है और इसे सभी बडी धूम-धाम से मनाते हैं। इस डे को क्रिसमस डे ही क्यों बोला जाता है ये बहुत कम लोग जानते होंगे,  इस शब्द का अर्थ बताते हैं। 

पौष मास में कृष्ण पक्ष एकादशी को सफला एकादशी कहा जाता है। यह साल की आखिरी एकादशी होती है। इस साल सफला एकादशी 22 दिसंबर को है। इस एकादशी का नाम सफला एकादशी इसलिए है क्योंकि इस एकादशी पर व्रत करने से हर कार्य सफल होता है। 

जयपुर मास- पौष, पक्ष- कृष्ण, वार-मंगलवार, शुभ समय-10:46 से 1:55, 3:30 5:05 तक, राहु काल- दोप. 3:00 से 4:30 बजे तक, सूर्योदय-07.08, सूर्यास्त-17.58।

ज्यादातर धर्मों में व पूजा-अर्चना के दौरान काले रंग के वस्त्रों या वस्तुओं को वर्जित किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि काला रंग नकारात्मकता फैलाता है। हिंदू धर्म में भी वैसे तो धार्मिक कार्यों के दौरान काले रंग या काले रंग के धागों का इस्तेमाल नहीं किया जाता ,लेकिन कुछ ख़ास कामों के लिए काले रंग को असरदार  है। कहते हैं कि काला धागा हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा को सोख लेता है।

माह – मार्गशीर्ष,तिथि – पूर्णिमा ,पक्ष – शुक्ल,वार – गुरूवार,नक्षत्र – मृगशिरा ,सूर्योदय – 07:03,सूर्यास्त – 17:25, चौघड़िया -शुभ – 07:08 से 08:25,चर – 10:58 से 12:15,लाभ – 12:15 से 13:31,अमृत – 13:31 से 14:48। गुरूवार को मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा भी है इस तरह दान करके पुण्य कमाएं।

उन्हें शिक्षित करने में अथक प्रयास करेंगे। प्रेम संबंधों में विश्वास बढ़ेगा। यदि जातक बिजनेस करते हैं तो लाभ होगा। नौकरी में सहयोगी परेशान करेंगे।परिवार में माता-पिता की इज्जत करें।परिवार में किसी बात को लेकर तनाव होगा। सेहत को लेकर सावधान रहें। ऑफिस में आपके खिलाफ सब रहेंगे। फिर भी बॉस