Tablighi Jamaat

भारत में कोरोनावायरस का नाम आते ही एक बार तबलीगी जमात का नाम जरूर आता है। वजह ये हैं कि देश में इस संक्रमण के प्रसार का एक बड़ा माध्यम जमात के लोग रहे। आंकड़ों की बात करें तो भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या के 30 फीसदी मरीज जमाती है।

मौलाना साद ने दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को पत्र लिख कर कहा है कि वह उनके खिलाफ जांच में सहयोग करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि, वो पहले ही क्राइम ब्रांच की ओर से मिले नोटिसों का जवाब देकर इस जांच का हिस्सा बन चुके हैं।

तबलीगी जमात के लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण का मामला बढ़ता जा रहा है। यहां अब तक जमात के 429 सदस्य कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, वहीं तबलीगी जमात के प्रमुख की मौत हो गयी।

तबलीगी जमात और मरकज के प्रमुख मौलाना साद पुलिस से भागते फिर रहे हैं। वह लगातार अपनी लोकेशन बदल रहे हैं। पुलिस का दावा हैं कि उन्हें जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

बीएचयू से मिली रिपोर्ट में सभी में कोरोना पॉजिटीव की पुष्टि हुई। इनमें से 3 व्यक्ति क्रमशः मदन पुरा निवासी 55 वर्षीय व्यक्ति, हैदराबाद निवासी 40 वर्षीय व्यक्ति व नक्की घाट निवासी 70 वर्षीय व्यक्ति जमात में शामिल थे।

री दुनिया को अपनी चपेट में ले चुके कोरोनावायरस (कोविड-19) के कारण भारत में स्थिति खराब होती जा रही है। इस पर पहलवान बबीता फोगाट ने जमातियों को जाहिल कहते हुए एक ट्वीट किया।

कोरोना महामारी फैलने से दुनिया की रफ्तार थम गई है। भारत में बीमारी को फैलने से रोका जा सके इसके लिए लॉकडाउन बढ़ाया गया है। बॉलिवुड ऐक्ट्रेस भी इसका पालन कर रहे हैं। सलमान खान अपने पनवेल फार्महाउस पर हैं और वहां से तस्वीरें और वीडियोज शेयर करते रहते हैं।

कोरोना वायरस देश में तेजी से फैल रहा है। कोरोना वायरस मामले में निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात ने बड़ी लापरवाही बरती है जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। दिल्ली पुलिस मरकज से जुड़े मामले की जांच कर रही है।

ऐसे राज्यों में सबसे आगे महाराष्ट्र है, जिसे सबसे अधिक कोरोना संकट का सामना करना पड़ा है। इसके पीछे इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों की उदारवादी और ढुलमुल नीति और उनका लचर रवैया भी रहा है जिसने उन्हे इस संकट में डालने का काम किया है।

आपको बता दें कि मामला जनपद शामली का है जहां पर कल कैराना कोतवाली क्षेत्र के नगर के मोहल्ला शेख बद्धा स्थित पटवारियों वाली मस्जिद में बाहर से जमती आए थे। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी जमातियो को क्वॉरेंटाइन कर दिया था।