uttar pradesh election

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अध्यक्ष अमित शाह ने यूपी विधानसभा चुनाव के लिए ‘यूपी के मन की बात’ नाम से एक महा अभियान शुरू किया है। इस दौरान अमित शाह ने कहा कि ‘चुनाव के पहले बीजेपी 20 करोड़ लोगों के साथ सीधे जुड़ेगी। मिस्ड कॉल नंबर, एलईडी हाईटेक रथ और अलाव सभा …

विधानसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने से पहले सरकार परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में एक बार और शिक्षकों की भर्ती करना चाहती है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कुछ समय पहले 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती का एलान किया था। लिहाजा माध्यमिक शिक्षा परिषद ने जो प्रस्ताव भेजा है, जिसमें 12 हजार खाली पदों में से 4 हजार पदों को उर्दू शिक्षक के पद में बदलने की सिफारिश की है। बाकि 8 हजार पदों पर सामान्य भर्ती होगी। शिक्षकों के सामान्य पदों को उर्दू शिक्षक के पद में परिवर्तित करने के मकसद से बेसिक शिक्षा विभाग ने प्रस्ताव को कार्मिक विभाग को उसकी राय के लिए भेजा है।

कांग्रेस ने राज्य में जो आंतरिक फीडबैक स्वतंत्र स्रोतों से प्राप्त किया है, उस हिसाब से कांग्रेस को अपने बूते पर चुनाव में उतरने से कोई लाभ नहीं होने वाला। भले ही राज्य की सभी सीटों पर चुनाव लड़कर कांग्रेस अपने वोट बैंक में इजाफा कर ले लेकिन असल में सीटों पर जीत के मामले में वह बुरी तरह पिछड़ सकती है।

बस्ती के दबंग नेताओ में से एक राजकिशोर सिंह एक बार फिर से हाथी पर सवार हो सकते हैं। इस सवारी को लेकर तब चर्चा और पुख्ता हो जाती है जब उनके साथ ही बर्खास्त किए गये मंत्री गायत्री प्रजापति को फिर से बाइज्जत लाल बत्ती वापस कर दी गयी। सारे फैसले वापस हो गये। सिवाय राजकिशोर के मंत्री पद के।

राहुल गांधी की मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी ऐसे ही दो शब्दों के जाल में फंस कर गुजरात चुनाव के दौरान अपनी फजीहत करा चुकी थीं। उन्होंने गुजरात के तत्कालीन सीएम और अब देश के पीएम नरेंद्र मोदी को मौत का सौदागर कह दिया था। इस बयान से भी लोगों में गुस्सा भर गया और बीजेपी दो तिहाई बहुमत से जीत गई।

बसपा प्रमुख ने कहा है कि पार्टी ने क्षेत्र में कामकाज के आधार पर लगभग एक दर्जन विधायकों के टिकट काट दिए हैं। इन विधायकों को 3 महीने पहले ही टिकट काटे जाने की जानकारी दे दी गई थी। यही विधायक अब बसपा छोड़ कर जा रहे हैं। कोई टिकट के स्वार्थ में किसी दूसरे दल में जाएगा तो बसपा पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

ओवैसी की पार्टी से मिली जानकारी के अनुसार एआईएमआईएम विधानसभा की 85 सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है। ये वो सीटें हैं जहां मुस्लिम मतदाता 50 प्रतिशत या उससे ज्यादा हैं। मुस्लिम चुनाव में टैक्टिकल वोटिंग करते हैं लेकिन ओवैसी के बढ़ते प्रभाव को नकारा नहीं जा सकता। यदि इन 85 विधानसभा क्षेत्रों में मुस्लिम मत बंटते हैं तो इसका जाहिर सा फायदा बीजेपी को ही मिलने जा रहा है।

लखनऊ: बसपा छोड़ने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्या ने जब कायकर्ताओं का हुजूम इकट्ठा कर अपनी ताकत दिखाई, तभी यह अंदाजा हो गया था कि अब वह अलग पार्टी बनाकर नई राजनीतिक पारी शुरू कर सकते हैं। लेकिन एनआरएचएम घोटाले के आरोपी पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा की सक्रियता ने इसमें थोड़ा सा टि्वस्ट ला …

उमाकांत लखेड़ा नई दिल्ली: 19 जून को अपने 47 वें जन्म दिन पर विदेश गए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी वापस लौट आए हैं। उनके सामने अब घरेलू मोर्चे पर भारी भरकम एंजेडा है। स्वदेश लौटते ही राहुल गांधी ने सात प्रदेशेां के पार्टी अध्यक्षों के साथ बैठक की। बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। यूपीए सरकार ने …

लखनऊ: कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव का जन्मदिन पार्टी के कार्यकर्ताओं, उनके दोस्तों और परिवारवालों ने बड़े ही धूमधाम से मनाया।  7 कालिदास मार्ग स्थित उनके आवास पर केक काटा गया। उन्हें बधाई देने के लिए वहां समर्थकों और सपा नेताओं का हुजूम उमड़ पड़ा। उनके जन्मदिन पर शनि मंदिर में विशाल भंडारे का भी आयोजन किया …