uttar pradesh hindi news

उत्तर प्रदेश के काकोरी का नाम लेते ही आजादी की वो लड़ाई याद आ जाती है। काकोरी का एक गांव जिसका नाम बाजपुर है वो 9 अगस्त 1925 का साक्षात गवाह है। काकोरी का ये गांव इसलिए जाना जाता है क्योंकि देश की आजादी की लड़ाई में हथियार खरीदने के लिए यहां ट्रेन लूटा गया था।

उन्नाव रेप केस की पीड़िता इस समय दिल्ली के एम्स में वेंटिलेटर के सहारे अपनी सांसे ले रही है। रेप के आरोपी भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुलदीप सेंगर जेल में हैं। ये है उन्नाव रेप पीड़िता की अब तक की कहानी। आम दिनों की तरह ही 2017 की एक दोपहर थी।

 उन्नाव मामले में काँग्रेस काफी मुखर,प्रखर नजर आ रही थी। जोशीले कार्यकर्ता बीजेपी ऑफिस को घेरने निकल पड़े। इनमें शामिल थे शिव पांडेय साहेब। जोरदार नारे लगा रहे थे। सांस फूल रही थी, लेकिन टीवी और अखबार पर छपने का मौका कैसे जाने देते। उनको क्या पता था कि वो अगले कुछ घंटों में इंडिया में फेमस होने वाले हैं।

भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत 10 नामजद और दो दर्जन से ज्यादा पर हत्या, जान से मारने, जानलेवा हमला करने की एफआईआर दर्ज कराई गई है। महेश सिंह की तहरीर पर रायबरेली के गुरुबख्शगंज थाने में एफआईआर दर्ज हुई।

राजधानी लखनऊ में ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी- 2 उद्घाटन रविवार सुबह 11 बजे केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने किया। उत्तर प्रदेश सीएम योगी आदित्यनाथ ने अमित शाह का स्वागत किया। इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में गृह मंत्री अमित शाह ने 65 हजार करोड़ के निवेश की 290 परियोजनाओं की नींव रखी।

गंगा-जमुनी तहजीब का संगम है अयोध्या, हिंदुओं के लिए रामलला तो मुस्लिमों के पैगंबरों, बौद्धों के धर्मगुरुओं और जैनियों के तीर्थकरों की कर्मभूमि भी यही है। अयोध्या को अपनों ने ही ऐसे घाव दिए जो नासूर बन गए और दर्द आज भी कायम हैं। ऐसा पहली बार नहीं हुआ था की देश में साम्प्रदायिक दंगे हुए। आजादी मिली तो दंगे, आजाद हुए तो दंगे।

मुरादाबाद जेल से संभल जिले में कैदियों को पेशी पर चंदौसी कोर्ट लाया गया था। पेशी के बाद उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच जेल वापस लाया जा रहा था। इसी दौरान कुछ बदमाशों ने बनिया ठेर थाना क्षेत्र के ग्रीन सिटी के पास वारदात को अंजाम दिया।

हाई कोर्ट के फैसले के बाद इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी। हालांकि, इलाहाबाद कोर्ट के फैसले पर सरकार ने अपना कोई फैसला नहीं किया था। एक अनुमान के अनुसार ऐसे शिक्षकों की संख्या 50 हजार से अधिक है जिनका ट्रेनिंग का परिणाम टीईटी के बाद घोषित हुआ था।

नर्वल थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में पीड़िता का परिवार घर के बाहर सो रहा था । बीते रविवार की देर नाबालिग ट्वायलेट के लिए उठी थी । तभी गांव के ही पांच युवक मुंह दबा कर उठा कर ले गए । नाबालिग के परिजनों ने जब देखा कि बेटी घर पर नहीं है । परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की लेकिन उसका कहीं कुछ पता नहीं चला ।

कानपुन देहात के मंगलपुर थाने में तैनात इंस्पेक्टर तुलसी राम पांडेय ने लगभग एक पहले चार्ज संभाला था । अपने सरल और सौम्य स्वाभाव की वजह से उन्होने लोगों के दिलों में जगह बना ली । गरीबों की मदद की करना उनकी आदत में सुमार था । इसके साथ ही गरीब बच्चो को खाना , कपड़ा और स्कूल की फीस जमा करते थे ।