workers

मजदूरों के लिये श्रमिक ट्रेन के नाम से स्पेशल ट्रेनें चलाई गई हैं जिसके किराये को लेकर जंग-ए-मैदान छिड़ा हुआ है। ऐसे में राजनीतिक बयानबाजी के चलते रेलवे का एक वो पत्र सामने आया है।

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए देशभर में लागू लॉकडाउन को एक महीने से ज्यादा समय हो गया है। ऐसे में देश के अलग-अलग राज्यों में फंसे हुए मजदूरों को...

लॉकडाउन के चलते कई लोग और मजदूर अपने राज्यों से दूर दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं। वहीं इस बीच गुजरात के सूरत से खबर आ रही है कि वहां मजदूरों ने घर वापसी को लेकर जमकर हंगामा किया।

लॉकडाउन के कारण काम न होने से परेशान मजदूरों के लिए सरकार ने कारगर योजना की शुरुआत की है, जिससे मजदूर भी अब वर्क फ्रॉम होम कर सकेंगे।

कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार ने लॉकडाउन किया है जिसकी वजह से रेलवे को भारी घाटा उठाना पड़ रहा है। अब इस घाटे से निपटाने के लिए रेल मंत्रालय 13 लाख से अधिक अधिकारियों और कर्मचारियों की सैलरी और भत्ते में कटौती की योजना तैयार कर रहा है।

राज्य सरकार ने लाकडाउन के दौरान किसी भी औद्योगिक इकाई के श्रमिकों का वेतन रूकने पर कडी कार्रवाई करने को कहा है। यही कारण है कि कई औद्योगिक इकाइयों ने अपने श्रमिको का भुगतान करना शुरू कर दिया है।

कोरोना वायरस की वजह से देश भर 3 मई तक के लिए लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है। लेकिन इसके बाद मुंबई से जो तस्वीर निकलकर सामने आ रही है वो काफी हैरान कर देने वाली है।

भारत में कोरोना का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। देश में अब तक कोरोना के 609 केस सामने आ चुके हैं। वहीं 21 लोगों की मौतें हो चुकी हैं। कोरोना के मरीजों की बढ़ती तादाद को देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने देश में लॉक डाउन घोषित कर दिया है।