×

मुलायम सिंह ने कहा- ना नाम बदलेंगे ना सिंबल, हम इस पार्टी को टूटने नहीं देंगे

Rishi
Updated on: 11 Jan 2017 8:12 AM GMT
मुलायम सिंह ने कहा- ना नाम बदलेंगे ना सिंबल, हम इस पार्टी को टूटने नहीं देंगे
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने बुधवार को पार्टी कार्यालय पर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि आप भी जानते हैं कि पार्टी को तोड़ने में कौन लगा हुआ है। कौन यह सारी साजिश रच रहा है। कौन बीजेपी के बड़े नेताओं से मिलता है। बहुत मेहनत से पार्टी खड़ी की है। इसे बनाने के लिए कितने लोगों ने लाठियां खाईं हैं। इस पार्टी को बनाने के पीछे कितनी लंबी संघर्ष की कहानी है। हम नहीं चाहते हैं कि पार्टी टूटे। जो मेरे पास था, वो सारा दे दिया। अब मेरे पास क्या है। हम पार्टी को टूटने नहीं देंगे। मुझे कार्यकर्ताओं पर पूरा भरोसा है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद मुलायम शिवपाल के साथ दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

और क्या बोले मुलायम सिंह ?

-मैंने गरीबी में परिवार छोड़ा। पार्टी के लिए जेल गए, लाठियां खाईं, तब जाकर कहीं खड़ी हो पाई है पार्टी।

-आप लोगों ने तकलीफें झेली हैं। परिवार भी छोड़ा। अपने बारे में क्या कहूं कि कितनी बार जेल जाना पड़ा।

-क्या मैंने मामूली तकलीफ झेली है। जब मैं जेल में था, तब शिवपाल पार्टी को देखता था।

-अखिलेश को सीएम बना दिया। जो कुछ था सब इन्हें दे दिया। अब मेरे पास क्या बचा है।

-रामगोपाल ने लिख कर दिया है कि हम मोटर साइकिल चुनाव चिन्ह मांग रहे हैं। वो बीजेपी से जाकर मिल गए हैं।

-मैं और शिवपाल कितनी बार जेल गए। शिवपाल रात छिप जाता था और दिन में प्रचार करता था।

-रामगोपाल ने चुनाव आयोग से अखिल भारतीय समाजवादी पार्टी नाम और मोटरसाइकिस सिंबल मांगा है।

-हम पार्टी को भी एक रखना चाहते हैं और परिवार को भी, लेकिन एक आदमी ऐसा होने नहीं दे रहा है।

-हम किसी भी कीमत पर पार्टी की एकता चाहते हैं। कार्यकर्ताओं वादा करो कि मेरे साथ रहोगे।

-रामगोपाल अगर मुझसे कहता तो मैं उसके बेटे-बहू को बचा लेता, लेकिन गलत जगह जाकर सहायता क्यों मांग रहा है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story