Top

जुबां पर आई साक्षी महाराज के दिल की बात, CM पद के लिए खुद का लिया नाम

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 May 2016 9:20 PM GMT

जुबां पर आई साक्षी महाराज के दिल की बात, CM पद के लिए खुद का लिया नाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

एटाः बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कह रहे हैं कि यूपी में बीजेपी सरकार बनने पर सीएम कौन होगा ये जनता तय करेगी। फिर भी नेता हैं कि खुद को सीएम कैंडिडेट प्रोजेक्ट करने से नहीं चूक रहे हैं। पहले गोरखपुर में बीजेपी के कार्यकर्ता योगी आदित्यनाथ का नाम इस पोस्ट के लिए आगे कर चुके हैं। ताजा मामला उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज का है। साक्षी ने अपना नाम खुद ही सीएम के पद के लिए आगे कर दिया है।

साक्षी महाराज ने क्या कहा?

-साक्षी ने कहा कि हर पद के लिए नेता दौड़ लगाते हैं, इसमें गलत क्या है।

-यूपी में कई नाम सीएम पद की दौड़ में हैं।

-साक्षी ने स्मृति ईरानी, आदित्यनाथ, महेश शर्मा, दिनेश शर्मा का नाम लिया।

-इसके बाद वरुण गांधी के अलावा खुद को भी इस पद की दौड़ में बता दिया।

यह भी पढ़ें...अमित शाह ने कहा- UP में वनवास खत्म हुआ तो जनता तय करेगी पार्टी का राम

साक्षी ने अपने नाम के पीछे दिया ये तर्क

-साक्षी महाराज ने कहा कि यूपी में ओबीसी चेहरा होगा तो ज्यादा सीटें जीतेंगे।

-उन्होंने कल्याण सिंह का नाम लिया और कहा कि उनके दौर में बीजेपी ने यूपी में दो बार सरकार बनाई।

-साक्षी महाराज खुद भी ओबीसी हैं। अखिलेश यादव भी ओबीसी हैं और दलित चेहरा मायावती हैं।

यह भी पढ़ें...चक्रपाणि महाराज बाेले- राम के नाम पर राज चाहती है BJP, मंदिर नहीं

और क्या बोले साक्षी महाराज?

-मुसलमानों को आरक्षण दिए जाने का विरोध किया।

-राम मंदिर बनवाकर ही बीजेपी 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ेगी।

-अयोध्या में अब बाबर या बाबरी के नाम पर ईंट नहीं रखी जा सकेगी।

-देश तुष्टिकरण नहीं संविधान के आधार पर ही चलेगा।

-मुलायम और कांग्रेस ने मुसलमानों को इंसान नहीं वोटर समझा।

-31 लाख मुसलमानों ने बीजेपी की सदस्यता ली है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story