Top

UP में 8 फीसदी राजभर वोट साधने की जुटी BJP, कल भासपा से होगा गठजोड़

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 July 2016 11:51 PM GMT

UP में 8 फीसदी राजभर वोट साधने की जुटी BJP, कल भासपा से होगा गठजोड़
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में 265+ विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करने का लक्ष्य लेकर चल रही बीजेपी की नजर अब सूबे के 8 फीसदी राजभर वोटों पर है। इसके लिए बीजेपी शनिवार को ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (भासपा) से हाथ मिलाने जा रही है।

मऊ के रेलवे मैदान में भासपा की ओर से होने जा रही अति पिछड़ा-अति दलित भागीदारी जागरूकता महापंचायत में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दोनों पार्टियों के बीच गठजोड़ का ऐलान कर सकते हैं। गठजोड़ होने के बाद बीजेपी के समर्थन से पूर्वांचल की 22 सीटों पर भासपा के उम्मीदवार विधानसभा चुनाव में उतर सकते हैं।

क्या है बीजेपी का गणित?

-यूपी में राजभर समाज के करीब 8 फीसदी वोटर हैं।

-राजभर वोटर 42 सीटों पर हैं और इनके वोट महत्वपूर्ण होते हैं।

-जंगीपुर विधानसभा उप चुनाव में भासपा का उम्मीदवार 8 हजार से ज्यादा वोट लेकर तीसरे नंबर पर रहा था।

-बीजेपी अनुप्रिया पटेल को मंत्री बनाकर 16 जिलों में 8 से 12 फीसदी कुर्मी वोटरों को अपने साथ जुटाने का दांव पहले ही चल चुकी है।

कौन हैं ओमप्रकाश राजभर?

-पहले बीएसपी के साथ थे ओमप्रकाश राजभर।

-साल 2002 में बीएसपी को अलविदा कहा।

-सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी बनाई।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story