Top

कोरोना वैक्सीनेशन: आधे से ज्यादा टीकाकरण केंद्र बंद, इस जिले में वैक्सीन की कमी

कोरोना वैक्सीन की किल्लत का असर पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी देखने को मिला।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautamPublished By Shashi kant gautam

Published on 7 April 2021 5:41 PM GMT

Vaccine shortage in Varanasi
X

Vaccine shortage in Varanasi: (Photo-Social Media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसी: एक तरफ पूरे देश में कोरोना संक्रमण का खतरा दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ कोरोना वैक्सीन की किल्लत का असर पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी देखने को मिला। एक ओर सरकार की ओर से कोरोना के दिशा-निर्देशों के पालन करने की अपील लोगों से की जा रही है तो ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए भी जागरूक किया जा रहा है।

66 सरकारी टीकाकरण केंद्रों में से सिर्फ 25 पर ही वैक्सीनेशन

जनपद में जहां 66 सरकारी टीकाकरण केंद्रों में से सिर्फ 25 पर ही वैक्सीनेशन का काम वैक्सीन की कमी के चलते हुआ है। हैरानी की बात यह है कि जनपदीय वैक्सीन भण्डार केंद्र पर भी ताला लटका दिखा। वैक्सीन की कमी कब तक पूरी होगी और स्थिति सामान्य होगी यह स्वास्थ्य विभाग को भी नहीं मालूम है।

कई केन्द्रों पर वैक्सीनेशन ठप हो गया

देश भर में पहले 60 वर्ष से ऊपर तो फिर 1 अप्रैल से 45 वर्ष से ऊपर वालों के लिए कोरोना टीकाकरण का अभियान युद्ध स्तर पर छेड़ा गया। ऐसे में पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी वैक्सीन की किल्लत की तस्वीर सामने आई। जहां 66 सरकारी टीकाकरण केंद्र वालों अस्पतालों में से 25 को छोड़कर बाकी सभी जगह वैक्सीनेशन ठप हो गया था।


सप्लाई की कमा का हवाला

बता दें कि शहर के चौकाघाट स्थित जनपद वैक्सीन भंडार केंद्र पर भी ताला लटक गया था तो वहीं नजदीक चौकाघाट राजकीय आयुर्वेदिक अस्पताल पर तो ढेलवरिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी वैक्सीनेशन का काम बंद हो गया। कबीर चौरा महिला अस्पताल में भी लगभग 15-20 मिनट तक के लिए वैक्सीनेशन को रोकना पड़ा।

लखनऊ से सप्लाई कम है-स्वास्थ्यकर्मी श्यामजी प्रसाद

जनपद वैक्सीन भंडार चौकाघाट से वैक्सीन वितरण करने वाले स्वास्थ्यकर्मी श्यामजी प्रसाद ने बताया कि लखनऊ से सप्लाई कम है। जिससे कभी सप्लाई मिल पा रही है तो कभी नहीं। चूंकि वाराणसी में खपत भी ज्यादा है। कल से ही दोनों कोवैक्सीन और कोवीशिल्ड दोनों ही खत्म हो गई थी। मंडल लेवल पर भी वाराणसी में वैक्सीन खत्म हो गया है। पहले जहां 60 केंद्रों पर वैक्सीनेशन होता है, वहीं अब 20-25 केंद्रों पर हो पा रहा है।

वैक्सीन की डोज खत्म हो चुकी है-सिस्टर उर्मिला सिंह

चौकाघाट सीएचसी पर वैक्सीन सेंटर पर तैनात सिस्टर उर्मिला सिंह बताती है कि अभी वैक्सीन की डोज खत्म हो चुकी है। अगले आदेश तक नहीं लगा पाएगा और आने वाले लोगों को रिक्वेस्ट करके वापस किया जा रहा है। इस बात की जानकारी नोडल ऑफिसर डॉ. एके पांडेय को दे दी गयी है। वहीं ढेलवरिया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे विजय शाह ने बताया कि वैक्सीन लगवाने के लिए आए हैं, लेकिन मैडम ने कहा है कि दो दिन बाद आईये। काफी दूर से आए हैं, लेकिन टीका लग नहीं पाया है जिससे काफी मायूसी हांथ लगी है।


चौकाघाट राजकीय आयुर्वेदिक अस्पताल की एमएस और प्रिंसिपल प्रो। नीलम गुप्ता ने बताया कि आज के लिए वैक्सीन नहीं मिल पाई इसलिए वैक्सीनेशन नहीं हो पाया। रोजाना साढ़े 4 से 5 सौ लोगों को उनके यहां टीका लगता है। लोगों को समझा-बुझाकर वापस किया गया। इस बारे में सीएमओ से भी बात हुई, उन्होंने कहा कि उपलब्धता कम होने के कारण आपके कॉलेज में वैक्सीन नहीं पहुंच सकी है।

वैक्सीनेशन सेंटर कम करने का आदेश

इस पूरे मामले पर स्वास्थ्य विभाग के वाराणसी के जिला प्रतिरक्षण अधिकारी जिनके ऊपर पूरे जनपद में वैक्सीन की जिम्मेदारी है डॉ। विजय शंकर राय ने बताया कि लखनऊ में भी वैक्सीन उपलब्ध न होने की वजह से वैक्सीन नहीं मिल पाई है। जिसपर वैक्सीनेशन सेंटर कम करने का आदेश आया है।

ढाई-तीन हजार लोगों को रोज वैक्सीन लगती थी

वाराणसी में कुल 66 सरकारी सभी तरह के अस्पतालों पर वैक्सीनेशन का काम होता है, लेकिन आज सिर्फ 25 जगहों पर ही वैक्सीनेशन हो पाया है। उम्मीद है कि वैक्सीन जल्द आ जायेगी। भारत सरकार पहले ही वैक्सीन भेज देती है। कभी डिमांड करने की जरूरत ही नहीं पड़ी है। वैक्सीन नहीं आयेगी इसका मुझे कोई कारण नजर नहीं आ रहा है कि लेकिन कब तक सबकुछ सुचारू रूप से शुरू हो जायेगा यह कह पाना मुश्किल है।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story