Top

बासी दाल-चावल खाने से दो बहनों की मौत, दो और बीमार, अस्पताल में भर्ती

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 29 April 2016 1:17 PM GMT

बासी दाल-चावल खाने से दो बहनों की मौत, दो और बीमार, अस्पताल में भर्ती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: कानपुर में बासी दाल-चावल और भिंडी की सब्जी खाने से एक ही परिवार की दो बच्चियों की मौत हो गई। वहीं एक बच्ची का इलाज चल रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि बच्चियों की मौत फूड प्वाईजिनिंग की वजह से हुई है।

क्या है मामला ?

-नौबस्ता थाना क्षेत्र के बाबा नगर की घटना।

-यहीं रहने वाला बसंतु चौरसिया अंडे की दुकान लगाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करता है।

-उसके परिवार में उसके अलावा पत्नी किरण और चार बेटियां थी।

-बड़ी बेटी दीपाली (9 वर्ष), मंझली बेटी खुशी (5 वर्ष), ईशा (4 वर्ष) और सबसे छोटी बेटी माही (2 वर्ष) की थी।

 दीपाली और ईशा अस्पताल में भर्ती हैं। उसकी मृत बहन (इनसेट में)
दीपाली और ईशा अस्पताल में भर्ती हैं। उसकी मृत बहन (इनसेट में)

कैसे बिगड़ी तबियत ?

-बुधवार शाम किरण ने दाल, चावल और भिंडी की सब्जी बनाई।

-गुरुवार को खुशी और माही ने यही खाना खाया।

-खाने के बाद से ही दोनों को उल्टियां और दस्त शुरू हो गई थी।

तीसरी बेटी ने भी खाया दूषित खाना

-बच्चियों की मां किरण ने बताया कि जब दोनों बेटियों की तबियत बिगड़ी तो फौरन पति को बताया।

-दोनों बच्चों को पास के ही निजी अस्पताल में भर्ती कराया।

-इलाज के दौरान दोनों ने दम तोड़ दिया।

-सभी लोग अस्पताल में थे इसी बीच दीपाली और ईशा ने भी वही दाल-चावल खा लिया।

-दीपाली की भी तबियत बिगड़ गई। उसे भी इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बच्चियों के पिता बसंतु चौरसिया बच्चियों के पिता बसंतु चौरसिया

किया अंतिम संस्कार

-बच्चियों के पिता ने बताया कि शुक्रवार सुबह ही दोनों बच्चियों का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

-दीपाली और ईशा का इलाज चल रहा है। अब वह खतरे से बाहर हैं।

क्या बताया अस्पताल के संचालक ने ?

अस्पताल के संचालक देश राजपाल के मुताबिक इलाज के दौरान खुशी और माही की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि जब बच्चियों को यहां लाया गया था तो यह डी-हाइड्रेट थी। फूड प्वाईजिनिंग की वजह से इनकी मौत हुई। वहीं इनकी दो और बच्चियों को एडमिट किया गया है। जो अब खतरे से बाहर हैं।

मौके पर पहुंची पुलिस मौके पर पहुंची पुलिस

विधायक ने दिया आर्थिक मदद का भरोसा

घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे किदवई नगर विधानसभा के विधायक अजय कपूर ने बच्चियों की मौत पर दुख जताया। उन्होंने परिवार को दिलासा देते हुए डीएम से बात कर पीड़ित परिवार को 10 हजार रुपए की आर्थिक मदद दिलाने का आश्वासन दिया है। साथ ही अपनी तरफ से भी आर्थिक मदद देने का भरोसा दिया है।

खाद्य विभाग की टीम को बुलाया गया

नौबस्ता थानाध्यक्ष राजीव द्विवेदी के मुताबिक खाद्य विभाग की टीम को बुलाया गया है। वह खाने का सैंपल लेकर इसकी जांच कराएगी।

Newstrack

Newstrack

Next Story