डीआरडीओ ने रूस के साथ प्रौद्योगिकी विकास अनुबंध पर किए हस्ताक्षर

उच्च ऊर्जा सामाग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL) डीआरडीओ की प्रयोगशाला है जो मिसाइलों, रॉकेटों और बंदूकों के लिए आवश्यक उच्च ऊर्जा सामाग्री की रेंज/स्पेक्ट्रम के विकास में काम कर रही है।

Published by Aditya Mishra Published: February 7, 2020 | 9:57 pm

लखनऊ: उच्च ऊर्जा सामाग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL) डीआरडीओ की प्रयोगशाला है जो मिसाइलों, रॉकेटों और बंदूकों के लिए आवश्यक उच्च ऊर्जा सामाग्री की रेंज/स्पेक्ट्रम के विकास में काम कर रही है।

डिफेंस एकस्पो 2020 के दौरान, उच्च ऊर्जा सामाग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL) पूणे ने एडवांस पायरोटेक्निक इग्निशन सिस्टम के विकास के लिए रोसोबोरोनेक्सपोर्ट, रूस के साथ प्रौद्योगिकी विकास अनुबंध पर हस्ताक्षर किए।

निदेशक उच्च ऊर्जा सामाग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL) केपीएस मूर्ति ने बताया कि इससे ऊर्जावान सामाग्री और पायरोटेक्निक तकनीक के क्षेत्र में उन्नति हो सकेगी जिससे उन्नत प्रज्जवलन प्रणाली का विकास होगा। यह उच्च प्रदर्शन प्रणोदन प्रणाली की भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करेगा।

उन्होंने कहा कि प्रणोदन प्रणाली रॉकेट और मिसाइलों के पिछे की शक्ति है। यह प्रौद्योगिकी विकास आगामी उत्पादों के लिए अत्याधिक ठोस रॉकेट मोटर्स के डिजाइन और विकास की सुविधा प्रधान करेगा। ये उत्पाद सुगठित और ऊर्जा सक्षम प्रणोदन प्रणाली पर आधारित होंगे।

ये भी पढ़ें…दिल्ली: डीआरडीओ कॉम्पलेक्स में सुरक्षाकर्मी ने खुद को मारी गोली, पुलिस जांच में जुटी

 

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App