×

Lucknow News: लोहिया मजदूर भवन नरही में मनाया गया लोकबन्धु राजनारायण का 105वां जन्मदिवस

Lucknow News: यह आयोजन केशव प्रसाद (पूर्व आईआरएस) की अध्यक्षता में किया गया। कार्यक्रम में प्रताप सिंह जंगलिया ने राजनारायण के संघर्षों पर प्रकाश डाला।

Anant kumar shukla
Updated on: 25 Nov 2022 1:29 PM GMT
Lucknow News Lokbandhu Rajnarayan 105th birthday celebrated
X

Lucknow News Lokbandhu Rajnarayan 105th birthday celebrated

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lucknow News: आज 25 नवम्बर को राजनारायण संघर्ष समिति द्वारा लोहिया मजदूर भवन नरही में लोकबन्धु राजनारायण का 105वां जन्मदिवस मनाया गया। यह आयोजन केशव प्रसाद (पूर्व आईआरएस) की अध्यक्षता में किया गया। इस कार्यक्रम में प्रताप सिंह जंगलिया ने राजनारायण के संघर्षों पर प्रकाश डाला। साथ ही विभिन्न पुराने सोशलिस्ट कार्यकर्ताओं को सम्मानित भी किया गया। केशव प्रसाद ने राजनारायण के कार्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वह एक समाज के हित के लिए लड़ने वाले नेता थे। उनके आदर्शों पर चलना हमारा कर्तव्य है। इसी क्रम में शैलेश कुमार त्रिपाठी (संस्थापक सदस्य मोतीलाल मोमेरियल सोसाइटी लखनऊ एवं सचिव हरिविलास महिला चिकित्सालय) ने राजनरायण के विषय में अपने स्मृतियो को व्यक्त करते हुए बताया कि अपने छात्र जीवन में अनेक बार नेता जी के साथ विधान भवन एवं जी.पी.ओ. के समक्ष समाज एवं मजदूर हित में भाग लिया। उन्होने बताया कि वह बहुत ही कर्मठ एवं जुझारू प्रवृत्ति के नेता थे जिन्होने कई जनआन्दोलनों में प्रतिभाग किया।

इस कार्यक्रम में राकेश पाण्डेय, जे.पी. शुक्ला, विनोद राय, राजपाल, बृजेन्द्र दीक्षित आदि लोगों द्वारा राजनारायण के संघर्षों पर प्रकाश डालते हुए उनको याद किया गया एवं उपस्थित होकर लोकबन्धु राजनारायण जी के चित्र पर फूल एवं माला अर्पित किया।


कौन हैं राजनारायण

राजनारायण का जन्म सन् 1877 वाराणसी जिले के मोतीकोट गंगापुर नामक गाँव के एक धनी भूमिहार ब्राम्हण परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम अनन्त प्रताप सिंह था। उन्होने अपनी उच्च शिक्षा (M.A. तथा LL.B) बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय बीएचयू से प्राप्त की। ये भारत के एक ऐसे राजनेता थे जिन्होने इंदिरा गांधी को रायबरेली से हराया था।

Anant kumar shukla

Anant kumar shukla

Next Story