Top

अगवा बच्चे की हत्या के बाद भीड़ हुई बेकाबू, आरोपियों के घर फूंके

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 5 July 2016 2:35 AM GMT

अगवा बच्चे की हत्या के बाद भीड़ हुई बेकाबू, आरोपियों के घर फूंके
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मेरठः व्यापारी के अगवा बेटे की हत्या की खबर मिलते ही लोग गुस्से से भर उठे। बेकाबू भीड़ ने अपहरण के आरोपियों के घर को फूंक दिया। ये सभी मारे गए बच्चों के पड़ोसी हैं। बच्चे की हत्या हाथरस में की गई और लाश को जंगल में फेंक दिया गया था। इससे पहले अपहरण करने वालों ने बच्चे के घरवालों से पांच लाख रुपए फिरौती मांगी थी। फिलहाल हालात को देखते हुए बड़ी तादाद में पुलिस यहां तैनात है।

क्या है मामला?

-इस्लामाबाद के आजाद रोड में मोहम्मद नदीम का कारखाना है।

-30 जून को नदीम का 11 साल का बेटा जीशान अगवा किया गया था।

-नदीम से बदमाशों ने पांच लाख रुपए की फिरौती मांगी थी, मथुरा के राया कस्बे से फोन आया था।

-घटना के चार दिन बाद नदीम के पड़ोसी नाजिम और मोनू को पुलिस ने पकड़ा।

-सोमवार को जीशान की हत्या कर शव जंगल में फेंक दिया गया, जिसे नाजिम और मोनू ने बरामद कराया।

पुलिस का क्या है कहना?

-मोनू और नाजिम के साथी वसीम और बिहारी सिंह ने जीशान की हत्या की।

-वसीम भी पकड़ लिया गया है, बिहारी सिंह को पकड़ने के लिए कोशिश जारी है।

हत्या की खबर से भड़के लोग

-जीशान का कत्ल होने की खबर से लिसाड़ी गेट के आजाद रोड में रहने वाले भड़क उठे।

-उन्होंने आरोपियों के घर को फूंक दिया और उनके परिजनों की जमकर पिटाई की।

-कई उत्पातियों ने मीडिया के लोगों के कैमरे भी छीन लिए।

-पीएसी और कई थानों की पुलिस ने हालात पर किसी तरह काबू पाया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story