Top

कारगिल विजय दिवस से पहले दुल्हन की तरह सजाया गया लखनऊ का शहीद स्मारक

shalini

shaliniBy shalini

Published on 26 July 2016 11:53 AM GMT

कारगिल विजय दिवस से पहले दुल्हन की तरह सजाया गया लखनऊ का शहीद स्मारक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ASHUTOSH TRIPATHI ASHUTOSH TRIPATHI

लखनऊ: आज कारगिल विजय दिवस है आज ही के दिन हमारे देश के सैनिकों ने सबसे कठिन लड़ाई पर जीत हासिल की थी। 17 साल पहले बर्फ की पहाड़ियों पर लड़ी गई 26 जुलाई 1999 को भारतीय सेना ने कारगिल युद्ध के दौरान चलाए गए ‘ऑपरेशन विजय’ को सफलतापूर्वक अंजाम देकर हमारे देश को घुसपैठियों के चंगुल से आजाद कराया था। इसी की याद में ‘26 जुलाई’ अब हर वर्ष कारगिल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

shaheed-smarak1

इस जंग में देश के सैनिकों ने दुश्मनों को धूल चटा दी थी। आज पूरे देश में कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि दी जा रही है। ऐसा ही माहौल लखनऊ के शहीद स्मारक पर देखने को मिला।

shaheed-smarak3

बता दें कि यह स्मारक शहीदों की ही याद में बनाया गया है। जिसमें शहीदों की मूर्तियां लगाई गई हैं। कारगिल विजय दिवस की पूर्व संध्या पर लखनऊ के शहीद स्मारक को दुल्हन की तरह सजाया गया था।

shaheed-smarak4

चारों ओर लाइट्स ही लाइट्स जगमगा रही थी। यह शहीद स्मारक गोमती नदी के किनारे है।

shaheed-smarak2

1999 में जब पाकिस्तानी घुसपैठिए इंडिया में जबरदस्ती घुसने की कोशिश करने लगे। तो भारतीय सेना को मोर्चा संभालना पड़ गया। कारगिल के उस युद्ध में करीब 527 सैनिक शहीद हो गए और 1000 से ज्यादा सैनिक घायल हो गए।

shaheed-smarak7

1999 में कारगिल में उस वक्त बर्फीली हवाएं चल रही ठंड इतनी ज्यादा थी कि मिट्टी का तेल भी जम जाए। हांड कंपाने वाली उस सर्दी में देश के जांबाजों ने बड़ी बहादुरी के साथ युद्ध लड़ा और देश में घुसपैठियों को घुसने से रोक लिया।

shaheed-smarak8

कारगिल दिवस पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए लोगों ने कैंडल जलाई।

shaheed-smarak9

shalini

shalini

Next Story