Top

आंध्र प्रदेश: हवा हुआ कोरोना का खौफ, गोबर फेंक स्पर्धा में उमड़ी भारी भीड़

कुरनूल जिले में उगाड़ी के मौके पर लोगों की भीड़ उमड़ी। लोग एक दूसरे से कंधा मिलकर गोबर फेंक स्पर्धा में शामिल हो रहे हैं।

Ashiki

AshikiBy Ashiki

Published on 16 April 2021 9:18 AM GMT

Cow Dung Fight
X

Photo- Social Media

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कुरनूल: कोरोना वायरस (Coronavirus) ने देश में हाहाकार मचा दिया है। हालात बेहद खराब होते जा रहे हैं। दैनिक आंकड़ों के साथ-साथ मौतों की संख्या और भी डराने लगी है। शुक्रवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय के जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना के 2 लाख 17 हजार 353 मामले सामने आए हैं। एक तरफ जहां संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है वहीं आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में लापरवाही देखने को मिली।

आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के कैरुप्पला गांव में उगाड़ी (नया साल) के मौके पर लोगों की भरी भीड़ उमड़ी। इस मौके का वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है, जिसमें देखा जा सकता है कि कोरोना के खतरे को नजरअंदाज करते हुए लोग एक दूसरे से कंधा मिलकर गोबर फेंक रस्म में शामिल हो रहे हैं। इस दौरान कोरोना गाइडलाइन के नियमों का सरेआम उल्लंघन किया गया।

दरअसल, उगाड़ी के मौके पर आंध्र प्रदेश में एक दूसरे पर गोबर फेंकने की परंपरा रही है। उगाड़ी कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के लिए नए साल का पहला दिन होता है। कुरनूल जिले के कल्लूर गांव में आयोजित एक अन्य कार्यक्रम में तीन दिवसीय उत्सव के लिए सैकड़ों लोगों को इकट्ठा होते देखा गया। इस उत्सव में चौदेश्वरी मंदिर की परिक्रमा करने के लिए बैलों का जुलूस निकाला गया। मंदिर से कुछ ही मीटर की दूरी पर एक विशाल पहिया और आसपास लोगों की भारी भीड़ देखी गई, जिनमें से अधिकांश लोग बिना मास्क के थे।

24 घंटे में आए कोरोना के इतने मामले

आपको बता दें कि आंध्र प्रदेश में पिछले 24 घंटे में पांच हजार से अधिक नये मामले सामने आये। पिछले साल 11 अक्टूबर के बाद एक दिन में मामलों की यह सबसे अधिक संख्या है। राज्य में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 31,710 हो गई है जो 25 अक्टूबर के बाद से सबसे अधिक आंकड़ा है। कोरोना के बढ़ते मामलों के तहत मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने 17 अप्रैल को तिरुपति लोकसभा उपचुनाव से पहले चित्तूर में एक पूर्व-चुनाव जनसभा को रद्द कर दिया था।

Ashiki

Ashiki

Next Story