Top

भूकंप से थर्राया अरुणाचल: झटकों से सहमे लोग, इतनी रही तीव्रता

अरुणाचल के पूर्वी कमेंग क्षेत्र में रात करीब नौ बजकर एक मिनट पर भूकंप आया था। जिसकी तीव्रता रिएक्टर स्केल पर 3.6 रही।

Shreya

ShreyaPublished By Shreya

Published on 12 April 2021 5:02 PM GMT

भूकंप से थर्राया अरुणाचल: झटकों से सहमे लोग, इतनी रही तीव्रता
X

भूकंप से थर्राया अरुणाचल: झटकों से सहमे लोग, इतनी रही तीव्रता

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ईटानगर: बीते कई दिनों से देश के अलग अलग हिस्सों में लगातार भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए जा रहे हैं। इस बीच अरुणाचल प्रदेश में धरती डगमगाने की खबर सामने आ रही है। प्रदेश के पूर्वी कमेंग क्षेत्र में रात करीब नौ बजकर एक मिनट पर भूकंप आया था। जिसकी तीव्रता रिएक्टर स्केल पर 3.6 रही। इस बात की जानकारी नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने दी है।

मिली जानकारी के मुताबिक, रात 9 बजकर 01 मिनट पर पूर्वी कमेंग क्षेत्र में भूकंप के झटके महसूस हुए थे। हालांकि झटके ज्यादा तेज नहीं थे। भूकंप की तीव्रता कम रही। ऐसे में किसी के हताहत होने की सूचना सामने नहीं आई है।

छत्तीसगढ़-मध्य प्रदेश की सीमा पर भूकंप

आपको बता दें कि इससे पहले रविवरा को छत्तीसगढ़-मध्य प्रदेश की सीमा पर दोपहर के समय में भूकंप आया था। इसकी वजह से अमरकंटक क्षेत्र के इलाकों में लोगों झटका महसूस हुआ था। जानकारी के मुताबिक, इसका केंद्र बिलासपुर से 122 से 125 किमी उत्तर-पूर्व की ओर रहा। हालांकि झटके ज्यादा तेज नहीं थे। भूकंप की तीव्रता रिएक्टर स्केल पर 3.7 मापी गई। भूकंप से किसी भी तरह की जनहानि नहीं हुई।

देश में आए दिन दर्ज हो रहे भूकंप (फोटो- सोशल मीडिया)

Earthquake आने पर करें ऐसे बचाव

भूकंप आने पर फौरन घर, स्कूल या दफ्तर की बिल्डिंग से निकलकर खुले मैदान में चले जाएं। ध्यान रहे बड़ी बिल्डिंग्स, पेड़ों, बिजली के खंबों आदि से दूर खड़े हों।

बाहर न निकल पाने की स्थिति में टेबल, बेड, डेस्क जैसे मजबूत फर्नीचर के नीचे घुस जाएं और उसके लेग्स को तेजी से पकड़कर रखें।

भूकंप आने पर खिड़की, अलमारी, पंखे, ऊपर रखे भारी सामान से दूर हट जाएं ताकि इनके गिरने से आपको चोट न लगे।

कहीं फंस गए हों तो दौड़ें नहीं, इससे भूकंप का ज्यादा असर होगा।

बाहर जाने के लिए लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करें।

गाड़ी में हैं तो बिल्डिंग, होर्डिंग्स, खंबों, फ्लाईओवर, पुल आदि से दूर या खुले में गाड़ी रोक लें और भूकंप रुकने तक इंतजार करें।

Shreya

Shreya

Next Story