Top

Aaj Surya Grahan Hai : साल का पहला सूर्य ग्रहण आज, जानिये Pregnancy Effect व Upay

Aaj Surya Grahan : आज सूर्य ग्रहण के समय रोहिणी और मृगशीर्षा नक्षत्र लगेगा, लेकिन ग्रहण के समय नक्षत्र मृगशिरा और चंद्र की राशि मिथुन और सूर्य की राशि वृषभ रहेगी। सूर्य के साथ बुध, राहु, शुक्र एक साथ रहेंगे। जो मानव जीवन में बहुत हद तक सकारात्मक प्रभाव डालेंगे।

Suman

SumanPublished By Suman

Published on 10 Jun 2021 5:58 AM GMT

सूर्य ग्रहण 2021 का प्रभाव
X

सांकेतिक तस्वीर( सौ.से सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Aaj Surya Grahan :साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को आज लग रहा है। हिंदू पंचांग के अनुसार तीसरे मास ज्येष्ठ में साल का पहला सूर्य ग्रहण लग रहा है। जिस दिन सूर्य ग्रहण लग रहा है उस दिन धार्मिक दृष्टि से कई महत्वपूर्ण तिथि है। ज्येष्ठ की अमावस्या, शनि जयंती और वट सावित्री की पूजा और व्रत भी इसी दिन है।

मृगशिरा नक्षत्र और वृष राशि में लगने वाला सूर्य ग्रहण कुछ राशियों के जीवन को प्रभावित कर रहा है। इसमें वृष, कुंभ, मिथुन राशियों सबसे अधिक प्रभावित होंगी। ग्रहण के कारण पूरे देश का मौसम बदल रहा है। ऐसा अनुमान है कि सूर्य ग्रहण के समय आज बारिश होगी या देश के कुछ हिस्सो में तेज बारिश हो रही है। इसमे देश के गुजरात, राजस्थान, बिहार, यूपी, मध्य प्रदेश समेत झारखंड राज्य शामिल है। दक्षिण भारत और पूर्वोत्तर के कई हिस्सों में तेज बारिश के अनुमान है।

आज सूर्य ग्रहण बस कुछ देर में लगेगा

जानिये आज सूर्य ग्रहण कितने बजे से कितने बजे तक है। बहुत खास दिन लग रहा सूर्य ग्रहण धार्मिक दृष्टि से 10 जून का दिन बहुत खास है। इस दिन सूर्य ग्रहण का प्रारंभ और समापन का समय कुछ इस तरह है कि –

  • 10 जून के दिन दोपहर 13:42 बजे से सूर्य ग्रहण का आरंभ
  • 10 जून 18:41 बजे तक सूर्य ग्रहण का समापन।
  • अमृत काल -08:09 AM से 09:57 AM, 04:42 AM
  • अभिजीत मुहूर्त- 11:30 AM से 12:25 PM
  • विजय मुहूर्त- 02:14 PM से 03:09 PM
  • ब्रह्म मुहूर्त- 03:44 AM।

सूर्य ग्रहण के दिन रोहिणी और मृगशीर्षा नक्षत्र लगेगा, लेकिन ग्रहण के समय नक्षत्र मृगशीर्षा और चंद्र की राशि मिथुन और सूर्य की राशि वृषभ रहेगी। सूर्य के साथ बुध, राहु, शुक्र एक साथ रहेंगे। जो मानव जीवन में बहुत हद तक सकारात्मक प्रभाव डालेंगे।

आज सूर्य ग्रहण के दौरान धार्मिक कृत्य

आज सूर्य ग्रहण के दौरान सूतक काल मान्य नहीं होगा। इसलिए इस बार धार्मिक कृत्य पर मनाही नहीं होगी। आज वट सावित्री की पूजा सुहागिनें बिना संशय के कर सकती है। वैज्ञानिकों के मुताबिक कनाडा, ग्रीनलैंड वाशिंगटन डीसी, न्यूयॉर्क, लंदन और टोरंटो जैसे देशों में आंशिक ग्रहण दिखाई देगा। वहीं भारत में भी पूरी तरह से दिखाई नहीं देगा। हां देश के कछ हिस्सों में जम्मू कश्मीर, लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में सूर्य ग्रहण दिखाई देगा, जबकि अन्य राज्य के लोग इसे नहीं देख पाएंगे। ऐसे में जो ज लोग साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण देखना चाहते हैं उनके लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए 'रिंग ऑफ फायर' देखने का बेहतरीन ऑप्शन हैं।


सांकेतिक तस्वीर( सौ.से सोशल मीडिया)


जानते हैं किस-किस धर्मग्रंथ में ग्रहण की चर्चा

धर्मग्रंथों में चंद्र और सूर्य ग्रहण के बारे मे बताया गया है। इसके बारें में महर्षि अत्रि को विस्तृत जानकारी थी। उन्होंने ही चंद्र और सूर्य ग्रहण की घटना और पृथ्वी , सूर्य और चंद्र की स्थिति से सबको अवगत कराया था। ग्रहण का वर्णन वेद-पुराणों में ऋगवेद, भागवत, रामायण, मत्स्य पुराण, देवी पुराण और महाभारत में भी वर्णन मिलता है।

आज सूर्य ग्रहण के दौरान न करें ये काम

बस कुछ देर में लगने वाले सूर्य ग्रहण के समय कुछ एहतियात बरतने की जरूरत है।

  • आज सूर्य ग्रहण के समय महिलाओं को कटाई-सिलाई के कामों से दूर रहना चाहिए।
  • इस दौरान बुराई और नशा से दूर रहने के साथ बच्चों से बुरा व्यवहार नहीं करना चाहिए।
  • दूध को ध्यान गर्म कर लेना चाहिए, क्योंकि सूर्य ग्रहण के समय दूध का गिरना अशुभ होता है।
  • ग्रहण को दौरान नहाने से बचना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं को बाहर नहीं निकलना चाहिए।


आज सूर्य ग्रहण के समय करें ये काम

आज सूर्य ग्रहण बहुत लंबे समय तक लग रहा है। इस समय कुछ काम करने से ग्रहण के प्रभाव से आप मुक्त हो सकते हैं।

  • ग्रहण के समय पूजा की मनाही है, लेकिन मंत्र जाप कर सकते हैं।
  • सूर्य ग्रहण के समय बीमार है तो पेय पदार्थ का सेवन कर सकते हैं।
  • भोजन दूध के साथ जो भी खाद्य है उसमें तुलसी डालने से दुष्प्रभाव नहीं पड़ता।

सांकेतिक तस्वीर( सौ.से सोशल मीडिया)

आज सूर्य ग्रहण के बाद दान का महत्व

  • सूर्य ग्रहण के बाद दान का 10 करोड़ गुणा लाभ मिलता है। इसलिए दान करना चाहिए।
  • सूर्य ग्रहण के खत्म होते ही सबसे पहले घर-मंदिर की सफाई करें।
  • उसके बाद स्नान कर पूरे घर में गंगाजल छिड़के।
  • फिर पूजा पाठ और धार्मिक काम करने के बाद दान करें।
  • दान में गेहूं, जरूरतमंदों को दान, पक्षियों को दाना डालें।

आज सूर्य ग्रहण से डरे या नहीं

आज सूर्य ग्रहण वैसे तो देश दुनिया को प्रभावित कर रहा है। लेकिन भारत के परिपेक्ष्य में सूर्य ग्रहण के दौरान और बाद में कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला है। वैज्ञानिकों का मानना है कि बाढ़, भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाएं आएं। इस पर ज्योतिषविदों का मानना है कि इस तरह की आपदाएं आती रहती है। ये ग्रहण के प्रभाव की वजह से ही आएंगी इसमें सत्यता नहीं। साथ ही ग्रहण के बाद ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि महामारी का प्रकोप ग्रहों की अच्छे संयोग से कम भी होने वाला है। इसलिए आज के सूर्य ग्रहण से जनमानस को डरने की जरूरत नहीं है। इसे खगोलीय घटना की तरह लेना चाहिए।

आज सूर्य ग्रहण में गर्भवती (Pregnant Women) महिला को क्या करना चाहिए?

10 जून को लगने वाला ग्रहण भारत में भले ना दिखें, लेकिन ग्रहण के नियमों का पालन सबके लिए खासकर गर्भवती के लिए जरूरी है।इस दौरान किए गए कुछ काम करने से मां और बच्चा दोनों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जानते हैं कि ग्रहण के समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

सांकेतिक तस्वीर( सौ.से सोशल मीडिया)

सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं सिर्फ फलाहार करें

कोई भी ग्रहण हो उस दौरान सिर्फ एक ही काम करने की इजाजत दी गई है। वो है ईश्वर का ध्यान और पूजा। लेकिन सूतक काल में धार्मिक कामों की मनाही है। लोग अपने घरों से कहीं बाहर नहीं जाते हैं और ग्रहण के अशुभ प्रभाव से बचने का प्रयास करते हैं। ग्रहण के दौरान खाना खाने की भी मनाही होती है।वहीं प्रेग्नेंट महिलाओं को ग्रहण के वक्त भूख लगे तो वह फलाहार कर सकती हैं।

  • गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान जैसे खाली आंखों से सूर्य ग्रहण को नहीं देखना चाहिए। ऐसा करने से आंखों की रोशनी पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं। साथ में ग्रहण का प्रभाव गर्भवती महिला और गर्भ पर भी पड़ता है।
  • इस दौरान गर्भवती महिलाओं को खास सुरक्षा की जरूरत है, ताकि मां के साथ ही होने वाला बच्चा भी ग्रहण के अशुभ प्रभाव से बच सके।
  • ग्रहण से गर्भवती महिलाओं के त्वचा और आंखों को बहुत अधिक नुकसान हो सकता है। इससे गर्भस्थ शिशु को भी त्वचा की परेशानी हो सकती है।
  • गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान घर के बाहर नहीं निकलना चाहिए। ग्रहण की छाया गर्भस्थ शिशु के लिए अशुभ माना जाता है।
  • गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान सूर्यदेव की पूजा, आदित्य ह्द्य स्तोत्र, सूर्याष्टक स्तोत्र का पाठ करना चाहिए।
  • ग्रहण लगने से पहले और खत्म होने के बाद गर्भवती महिलाओं को एक बार जरूर स्नान कर लेना चाहिए। इससे दूषित तरंगों का असर नहीं पड़ता है।

Suman

Suman

Next Story