मंदिर जाएं तो जरूर करें ये काम , मिलेगा अक्षय पुण्य, जानते हैं क्यों?

हिंदू मान्यता के अनुसार मंदिर दर्शन के लिए जाने वाले हर दर्शनार्थी को परिक्रमा जरूर करना चाहिए। दरअसल, भगवान की परिक्रमा का धार्मिक महत्व तो है ही, विद्वानों का मत है भगवान की परिक्रमा से अक्षय पुण्य मिलता है, सुरक्षा प्राप्त होती है और पापों का नाश होता है।

Published by suman Published: April 29, 2020 | 11:03 pm

जयपुर : हिंदू मान्यता के अनुसार मंदिर दर्शन के लिए जाने वाले हर दर्शनार्थी को परिक्रमा जरूर करना चाहिए। दरअसल, भगवान की परिक्रमा का धार्मिक महत्व तो है ही, विद्वानों का मत है भगवान की परिक्रमा से अक्षय पुण्य मिलता है, सुरक्षा प्राप्त होती है और पापों का नाश होता है।

यह पढ़ें….शुभ या अशुभ: सपने में दिखे सांप,शिव या डमरू तो जानिए इसका सही मतलब

 

शास्त्रों में बताया गया है भगवान की परिक्रमा से अक्षय पुण्य मिलता है और पाप नष्ट होते हैं। इस परंपरा के पीछे धार्मिक महत्व के साथ ही वैज्ञानिक महत्व भी है। जिन मंदिरों में पूरे विधि-विधान के साथ देवी-देवताओं की मूर्ति स्थापित की जाती है, वहां मूर्ति के आसपास दिव्य शक्ति हमेशा सक्रिय रहती है।

सका एक दार्शनिक महत्व यह भी है कि संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रत्येक ग्रह-नक्ष‍त्र किसी न किसी तारे की परिक्रमा कर रहा है। यह परिक्रमा ही जीवन का सत्य है। व्यक्ति का संपूर्ण जीवन ही एक चक्र है। इस चक्र को समझने के लिए ही परिक्रमा जैसे प्रतीक को निर्मित किया गया। भगवान में ही सारी सृष्टि समाई है, उनसे ही सब उत्पन्न हुए हैं, हम उनकी परिक्रमा लगाकर यह मान सकते हैं कि हमने सारी सृष्टि की परिक्रमा कर ली है। परिक्रमा का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व भी है।

इससे जुड़ी एक कथा भी है जिसके अनुसार भगवान श्रीगणेश का पूजन सबसे पहले किया जाता है, क्योंकि उन्होंने ही सबसे पहले शिवजी और पार्वतीजी की परिक्रमा की थी।

 

ऋग्वेद के अनुसार प्रदक्षिणा शब्द को दो भागों  प्रा और दक्षिणा में विभाजित है। इस शब्द में प्रा से तात्पर्य है आगे बढ़ना और दक्षिणा का मतलब चार दिशाओं में से एक दक्षिण की दिशा। यानी कि ऋग्वेद के अनुसार परिक्रमा का अर्थ है दक्षिण दिशा की ओर बढ़ते हुए देवी-देवता की उपासना करना। इस तरह गोलाकार परिक्रमा को ईश्वर के करीब पहुंचने का सबसे आसान तरीका माना गया है।

 

यह पढ़ें….OMG: प्राचीन समय की इन परंपराओं को जानकर पैरों तले खिसक जाएगी जमीन

व्यवहारिक और वैज्ञानिक पक्ष वास्तु और आस पास फैली सकारात्मक ऊर्जा से जुड़ा है। मंदिर में भगवान की प्रतिमा के चारों ओर सकारात्मक ऊर्जा का घेरा होता है, यह मंत्रों के उच्चरण, शंख, घंटाल आदि की ध्वनियों से निर्मित होता है। भगवान की प्रतिमा की परिक्रमा इसलिए करनी चाहिए ताकि हम भी थोड़ी देर के लिए इस सकारात्मक ऊर्जा के बीच रहें और यह हम पर अपना असर डाले।