सिर्फ 5 मूली का यह उपाय, भर देगी नि:संतान दंपत्ति की सूनी गोद, आप भी है परेशान तो जरूर अपनाएं

माता-पिता के लिए संतान सुख दुनिया का सबसे बड़ा सुख होता है। किसी कारण से संतान सुख में बाधा आ रही है तो सोने से पहले पत्नी के सिरहाने में कुछ ऐसा रखने की सलाह दी जाती है,इसके अलावा संतान प्राप्ति के लिए वास्तु में कुछ उपाय बताए गए हैं।  

जयपुर: माता-पिता के लिए संतान सुख दुनिया का सबसे बड़ा सुख होता है। किसी कारण से संतान सुख में बाधा आ रही है तो सोने से पहले पत्नी के सिरहाने में कुछ ऐसा रखने की सलाह दी जाती है,इसके अलावा संतान प्राप्ति के लिए वास्तु में कुछ उपाय बताए गए हैं।

*जब जन्मपत्री में राहु कुंडली के पांचवें घर में हो और संतान सुख में कठिनाई आ रही है। ऐसी स्थिति में राहु दोष को दूर करने के लिए घर के मुख्य दरवाजे के नीचे चांदी का पत्र रखना चाहिए। अगर आप यह काम नहीं कर पाते हैं 40 दिनों तक पांच मूली पत्नी के सिरहाने रखें और सुबह मूली को शिव मंदिर में रख आएं। इससे संतान प्राप्ति की संभावना बढ़ेगी।

*अगर शादी के कई सालों तक संतान नहीं हो रही है तो मदार की जड़ शुक्रवार को उखाड़ लें। उसे स्त्री की कमर में बांध दें।

*पति-पत्नी, दोनों गुरुवार को पीले वस्त्र धारण करें और व्रत रखें। इस दिन पीली वस्तुओं का दान करें और पीला भोजन ही करें।

*स्त्री गेहूं के आटे की लोई बनाकर उसमें भीगी चने की दाल और थोड़ी सी हल्दी मिलाकर रोजाना गाय को खिलाएं। जल्द ही आपके आंगन में किलकारियां गूंजेगीं।

*संतान प्राप्ति के लिए पति-पत्नी दोनों को लाल गाय व बछड़े की सेवा करनी चाहिए। चांदी की बांसुरी राधा-कृष्ण के मंदिर में पति-पत्नी दोनों मिलकर गुरुवार के दिन अर्पित करें। घर में भगवान श्रीकृष्ण के बाल रूप का चित्र लगाएं।

4 जुलाई को रथयात्रा: भगवान जगन्नाथ का रथ है खास, खींचने से मिलता है मोक्ष

*भगवान श्रीकृष्ण की पूजा से संतान प्राप्ति का आशीर्वाद प्राप्त होता है। गुरुवार के दिन गुड़ का दान करने से भी संतान सुख प्राप्त होता है। गुरुवार के दिन गरीबों में गुड़ बांटे। रोजाना पशुओं को भोजन खिलाएं।

*रात को सोते समय अपने सिरहाने जल से भरा पात्र रखें और सुबह इस जल को पेड़-पौधों में डाल दें। माना जाता है कि संतान सुख पाने के लिए अपने बिस्तर में हरे रंग की बांसुरी को छुपाकर रखें। ऐसा करने से संतान प्राप्ति की मनोकामना पूर्ण होती है।

*संतान सुख में बाधा होने पर शयनकक्ष में हाथी का चित्र या प्रतिमा रखें। पत्नी को हमेशा पति के बाएं ओर सोना चाहिए। यदि संतान का जन्म हो जाए तो मिठाई में अंशमात्र नमक का भी समावेश कर दें। स्कन्द माता के पूजन से मातृत्व सुख प्राप्त होता है।

*रविवार को छोड़कर स्त्री रोजाना पीपल के पेड़ पर दीपक जलाएं। और उसकी परिक्रमा करते हुए संतान प्रप्ति की प्रार्थना करें।