Top

Shani Jayanti 2021 Kab Hai: शनि जयंती पर लग रहा सूर्य ग्रहण, बन रहा दुर्लभ संयोग, राशि के अनुसार करें Upay, बरसेगी शनि की कृपा

नवग्रहों में क्रूर शनिदेव न्यायप्रिय देव है। शनि जयंती के दिन कुप्रभाव से बचने के लिए 12 राशियों के जातक इन उपायों के साथ परिवार का सम्मान करें। शनि की ढइया और साढ़ेसाती से बचने के लिए शनि देव को तेल और तिल अर्पित करेंगे तो धन-समृद्धि के साथ सेहत भी बढिया रहेगा। कोरोना से बचने के लिए शनि जयंती पर ऊं शं अभ्यहस्ताय नम: मंत्र का जप करें।

Suman

SumanPublished By Suman

Published on 3 Jun 2021 6:54 AM GMT

Shani Jayanti 2021 Kab Hai: शनि जयंती पर लग रहा सूर्य ग्रहण, बन रहा दुर्लभ संयोग, राशि के अनुसार करें Upay,  बरसेगी शनि की कृपा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • सूर्य ग्रहण और शनि जयंती

सूर्य-शनि के बीच पिता और पुत्र का संबंध है। इस बार आगामी 10 जून को लगने वाले सूर्य ग्रहण के दिन अमावस्या तिथि के साथ शनि जयंती भी है। इस दिन न्याय के देव शनि की पूजा से शनि के कोप,साढेसाती के प्रभाव से बच जाते हैं।लेकिन शनि जयंती यानि शनि जन्म दिवस के दिन सूर्य का ग्रहित होने सेहत और मान-सम्मान पर असर पड़ेगा।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शनि और सूर्य एक दूसरे के शत्रु है। दोनों का आपस बैर है। उसपर इस बार के ग्रहण के समय मृगशिरा नक्षत्र , वृष राशि के होने से जीवन पर और भी गहरा प्रभाव पड़ रहा है। कहा जा रहा है कि शनि और सूर्य साथ में ग्रहण के फलस्वरुप सबसे अधिक वृष राशि के जातक प्रभावित होंगे। आर्थिक तंगी से लेकर अपयश मानहानी और धन की कमी के साथ सेहत पर भी बुरा प्रभाव पड़ेगा।

शनि जयंती – कौन है शनिदेव

हिन्दू धर्म के अनुसार ज्येष्ठ माह की अमावस्या को शनि जयंती होता है। इस साल 10 जून को शनि जयंती पड़ रहा है। शनि देव को न्याय का देव माना जाता है। नवग्रहों में शनिदेव को सातवां स्थान मिला है।मकर और कुंभ राशि के स्वामी शनिदेव को क्रुर ग्रहों की श्रेणी में रखा रखा गया है। एक राशि में शनि ढाई साल और साढ़े साल रहते हैं।जिस भी राशि पर शनि साढ़े साती होती है उस पर शनि का कहर बरपता है, लेकिन जातक सदकर्मों और पूजा जपतप से शनि का प्रभाव कम कर सकते हैं।

सांकेतिक तस्वीर( सौ. से सोशल मीडिया)

शनि जयंती- सूर्य ग्रहण पर पहले शनि फिर सूर्य की पूजा

ऐसा कहते हैं कि इस दिन अगर पूरी श्रद्धा और भक्ति से उनकी पूजा की जाए तो शनि की कृपा बरसती है। जातक के जीवन में सुख-समृद्धि छा जाती है। हम जैसा कर्म करेंगे शनिदेव वैसा फल देते हैं। बुरे कर्म करने पर शनिदेव दंडित भी करते हैं। ग्रहण दोपहर में 1 बजे के बाद लगेगा। उससे पहले शनि की विधिवत पूजा कर ली जाए तो ग्रहण का प्रभाव कम कर सकते हैं।

शनि जयंती दो शुभ योग

शनि जयंती के दिन खगोलीय घटना घट रही है, लेकिन इन्हीं शुभ और अशुभ प्रभावों के बीच दो शुभ योग धृति और शूल बन रहे हैं। जो मांगलिक कामों के लिए बढ़िया होने के साथ कठिन से कठिन कामों की सफलता के लिए भी शुभ है।

  • शनि जयंती तिथि और दिन : 10 जून 2021, बृहस्पतिवार
  • अमावस्या तिथि प्रारम्भ : 09 जून 2021 को दोपहर 01 बजकर 57 मिनट से
  • अमावस्या तिथि समाप्त : 10 जून 2021 को शाम के 04 बजकर 22 मिनट तक

सूर्य ग्रहण का समय

  • सूर्य ग्रहण शुरू होने का समय : 10 जून 2021 को 13 बजकर 42 मिनट से
  • सूर्य ग्रहण खत्म होने का समय : 10 जून 2021 को 18 बजकर 41 मिनट तक

शनि जयंती पर पूजा के समय इन बातों का रखें ध्यान

सुबह उठकर सबसे पहले साफ-सफाई के बाद स्नान करें और स्वच्छ कपड़े पहनकर शनि ग्रह की पूजा पंचोचार विधि से करें। शनि देव की पूजा में काले-नीले फूल अक्षत, धूप, दीप के साथ तेल से बनी चीजों को अर्पित करना चाहिए। इससे उनकी कृपा बरसती है। पूजा के समय और सूर्य ग्रहण के समय शनि मंत्र और शनि चालीसा का पाठ करते रहें इससे बुरे प्रभाव से बच जाएँगे।

  • शनि जयंती पर ऊं शं अभ्यहस्ताय नम: मंत्र का जाप करके कोरोना जैसी महामारी से बच सकते हैं।
  • शनि के साथ इस दिन बजरंगबली की भी पूजा करेंगे तो अच्छा रहेगा।
  • साथ ही सूर्यदेव की पूजा की जगह उनका मंत्र उच्चारण करना इस दिन अच्छा रहेगा।
  • बड़े-बुजुर्गों का अपमान करने से बचें, नहीं तो शनिदेव दंड़ित करते है।
  • अगर इस बार ग्रहण के दिन शनि जयंती पर कही जाने की सोच रहे है तो यात्रा स्थगित करने में ही सबकी भलाई है।


सांकेतिक तस्वीर( सौ. से सोशल मीडिया)


शनि जयंती पर राशि के अनुसार उपाय

  • शनि जयंती पर मेष राशि करें यह उपाय: किसी काम में रुकावट आने पर शनि जयंती के दिन गरीबों को भोजन कराएंगे तो रुका हुआ काम बनेगा।
  • शनि जयंती पर वृष राशि करें यह उपाय: इस दिन शादी की बात नहीं तय होने पर 7 इलाइची लें उसे 7 बार अपने ऊपर से उबार लें, फिर उसे देवी कात्यायनी के चरणों में रख दें बात बन जाएगाी।
  • शनि जयंती पर मिथुन राशि करें यह उपाय: पीपल वृक्ष के नीचे दीप जलाए और ढइया से राहत पए
  • शनि जयंती पर कर्क राशि करें यह उपाय: प्रेम संबंध के लिए काला धागा लेकर पीपल पर चढ़ाएं और तेल अर्पित करें लाभ मिलेगा।
  • शनि जयंती पर सिंह राशि करें यह उपाय: सेहत के लिए चप्पल और छाता का दान करें।
  • शनि जयंती पर कन्या राशि करें यह उपाय: अध्यात्म में झुकाव के लिए तिल के लड्डू शनि जयंती पर खाए और दान दें।
  • शनि जयंती पर तुला राशि करें यह उपाय: परिवार की इज्जत के लिए शनि देव को सरसों का तेल अर्पित करें।
  • शनि जयंती पर वृश्चिक राशि करें यह उपाय : विवाद बचें और परिवार से दूरी की वजह से परेशान रहेंगे इसके लिए तेल और उड़द की दाल का दान करेंगे तो लाभ मिलेगा।
  • शनि जयंती पर धनु राशि करें यह उपाय: सूरमा लगाएंगे तो वाणी पर नियंत्रण रहेगा और आर्थिक हानि से बचेंगे।
  • शनि जयंती पर मकर राशि करें यह उपाय : साढ़े साती और ढइया का असर जातक पर कम करने के लिए शनिदेव के इस दिन सूरमे का तिलक लगाएंगे तो लाभ मिलेगा।
  • शनि जयंती पर कुंभ राशि करें यह उपाय: कुंभ राशि के जातक पर द्वादश भाव में शनि चल रहे हैं । खर्च की अधिकता रहेगा इसके लिए दूध और तिल से वट वृक्ष की पूजा करेे।
  • शनि जयंती पर मीन राशि करें यह उपाय: परिवार के सहयोग के लिए काला चना दान दें।



Suman

Suman

Next Story