Top

Surya Grahan Kab Hai 2021: 4 ग्रहों के साथ ऐसा दिखेगा साल का पहला Surya Grahan, नहीं लगेगा सूतक काल

Surya Grahan Kab Hai 2021 | चंद्र ग्रहण के 16 वें दिन लगने वाला Surya Grahan वृष राशि में बुध, राहु और शुक्र के साथ शुभ संकेत दे रहा है।

Suman  Mishra | Astrologer

Suman  Mishra | AstrologerBy Suman Mishra | Astrologer

Published on 29 May 2021 8:22 AM GMT

सूर्य ग्रहण 2021
X
सांकेतिक तस्वीर ( सौ. से सोशल मीडिया)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सूर्य ग्रहण 2021 ( Surya Grahan 2021)

चंद्र ग्रहण के ठीक 16 वें दिन सूर्य ग्रहण लग रहा है। इस साल 2021 में 10 जून को सूर्य ग्रहण लग रहा है। हिंदू पंचांग के अनुसार तीसरे मास ज्येष्ठ में साल का पहला सूर्य ग्रहण लग रहा है। इस बार सूर्य ग्रहण के दौरान सूतक काल मान्य नहीं होगा। इसलिए इस बार धार्मिक कृत्य पर मनाही नहीं होगी।

जिस दिन सूर्य ग्रहण लग रहा है उस दिन धार्मिक दृष्टि से कई महत्वपूर्ण तिथि है। ज्येष्ठ की अमावस्या, शनि जयंती और वट सावित्री की पूजा और व्रत भी इसी दिन है।


सूर्य ग्रहण कब है 2021?

बहुत खास दिन लग रहा सूर्य ग्रहण धार्मिक दृष्टि से 10 जून का दिन बहुत खास है। इस दिन सूर्य ग्रहण का प्रारंभ और समापन का समय कुछ इस तरह है कि --

  • 10 जून के दिन दोपहर 13:42 बजे से सूर्य ग्रहण का आरंभ
  • 10 जून 18:41 बजे तक सूर्य ग्रहण का समापन।
  • अमृत काल -08:09 AM से 09:57 AM, 04:42 AM
  • अभिजीत मुहूर्त- 11:30 AM से 12:25 PM
  • विजय मुहूर्त- 02:14 PM से 03:09 PM
  • ब्रह्म मुहूर्त- 03:44 AM।

सूर्य ग्रहण के दिन रोहिणी और मृगशीर्षा नक्षत्र लगेगा, लेकिन ग्रहण के समय नक्षत्र मृगशीर्षा और चंद्र की राशि मिथुन और सूर्य की राशि वृषभ रहेगी। सूर्य के साथ बुध, राहु, शुक्र एक साथ रहेंगे। जो मानव जीवन में बहुत हद तक सकारात्मक प्रभाव डालेंगे।

इस बार लगने वाला वलयकार सूर्य ग्रहण उत्तरी अमेरिका के उत्तरी भाग, यूरोप और एशिया में आंशिक व उत्तरी कनाडा, ग्रीनलैंड और रुस में दिखेगा। लेकिन भारत में नहीं दिखेगा। इससे इसका प्रभाव भी भारत पर नहीं रहेगा।

वलयाकार सूर्य ग्रहण

जब चंद्र पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए, सामान्य की तुलना में उससे दूर हो जाता है। इस दौरान चंद्र सूर्य और पृथ्वी के बीच होता है, लेकिन उसका आकार पृथ्वी से देखने पर इतना नज़र नहीं आता कि वह पूरी तरह सूर्य की रोशनी को ढक सके। इस स्थिति में चंद्र के बाहरी किनारे पर सूर्य काफ़ी चमकदार रूप से रिंग यानि एक अंगूठी की तरह प्रतीत होता है। इस घटना को ही वलयाकार सूर्य ग्रहण कहते है।

2021 में कुल दो सूर्य ग्रहण घटित होने वाले हैं। इनमें से पहला सूर्य ग्रहण वर्ष के मध्य में, यानि 10 जून 2021 को घटित होगा तो वहीं साल का दूसरा सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर 2021 को घटित होगा। चूँकि भारत में इस सूर्य ग्रहण की दृश्यता न तो पूर्ण रुप से और ना ही आंशिक रुप से होगी, इसलिए इसका सूतक भी भारत में प्रभावी नहीं होगा।

Suman  Mishra | Astrologer

Suman Mishra | Astrologer

Next Story