Top

बंगाल में हिंसा पर गृह मंत्रालय का कड़ा रुख, नड्डा बोले- खून से सने हैं ममता के हाथ

केंद्रीय गृह सचिव ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव को पत्र कड़ा पत्र लिखकर हिंसा की घटनाओं पर गहरी नाराजगी जताई है।

JP Nadda
X

एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान जेपी नड्डा (फोटो साभार- ट्विटर)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल में हिंसा की घटनाओं पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कड़ा रुख अपनाया है। केंद्रीय गृह सचिव ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव को पत्र कड़ा पत्र लिखकर हिंसा की घटनाओं पर गहरी नाराजगी जताई है। उन्होंने चेतावनी भरे अंदाज में कहा कि यदि बंगाल सरकार ने गृह मंत्रालय को जवाब नहीं दिया तो इसे काफी गंभीरता से लिया जाएगा। गृह मंत्रालय ने हिंसा के संबंध में 3 मई को ही रिपोर्ट तलब की थी मगर पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव ने अब तक गृह मंत्रालय को रिपोर्ट नहीं भेजी है।

दूसरी और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी के हाथ खून से सने हुए हैं और राज्य प्रायोजित हिंसा में अब तक 14 भाजपा कार्यकर्ता मारे जा चुके हैं। नड्डा ने कहा कि बंगाल चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद करीब 80,000 से एक लाख लोग हमलों की आशंका से घर छोड़कर भाग गए हैं। उन्होंने इन हमलों पर ममता की चुप्पी पर भी सवाल उठाए हैं।

हिंसा पर गृह सचिव ने मांगी तत्काल रिपोर्ट

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हिंसा की घटनाओं से राज्य सरकार और केंद्र सरकार के बीच तकरार और बढ़ने के आसार दिख रहे हैं। केंद्रीय गृह सचिव ने हिंसा की घटनाओं पर बंगाल के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर तत्काल रिपोर्ट सौंपने को कहा है। केंद्रीय गृह सचिव ने सख्त अंदाज में कहा कि बंगाल में हिंसा की घटनाओं पर लगाम नहीं लगी है। उन्होंने इस बाबत उचित कार्रवाई न किए जाने पर भी सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि यदि बंगाल सरकार ने इस बाबत जवाब नहीं दिया तो उसे काफी गंभीरता से लिया जाएगा।


दो दिन बीतने पर भी नहीं भेजी रिपोर्ट

जानकार सूत्रों का कहना है कि गृह मंत्रालय की ओर से हिंसा की घटनाओं को लेकर 3 मई को ही रिपोर्ट तलब की गई थी मगर 48 घंटे बीत जाने के बावजूद पश्चिम बंगाल की ओर से अभी तक कोई जवाब नहीं भेजा गया है। पश्चिम बंगाल के इस रवैये को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने काफी गंभीरता से लिया है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने मुख्य सचिव को लिखे अपने पत्र में हिंसा की घटनाओं पर तुरंत रोक लगाने और जरूरी कार्रवाई करने को भी कहा है।

नड्डा ने ममता की चुप्पी पर उठाए सवाल

उधर पश्चिम बंगाल के दौरे पर पहुंचे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने ममता सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि हिंसा की घटनाओं पर ममता बनर्जी की चुप्पी से साफ है कि उनकी घटनाओं में संलिप्तता है। उन्होंने खून से सने हुए हाथ के साथ अपने कार्यकाल की शुरुआत की है।


टीएमसी से डरकर हो रहा पलायन

नड्डा ने पार्टी समर्थकों की हत्या और महिलाओं के उत्पीड़न की कड़ी निंदा करते हुए दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस के गुंडों के डर से लोग घरों को छोड़कर भाग रहे हैं। उन्होंने कहा कि हिंसा की इन घटनाओं से साफ है कि हम चुनाव प्रचार के दौरान जब कहा करते थे कि बंगाल में महिलाएं सबसे ज्यादा असुरक्षित हैं तो हम पूरी तरह सही थे।

चुप्पी से ममता की भागीदारी साबित

भाजपा नेता ने कहा कि बंगाल में नरसंहार और नृशंस हत्याओं का दौर चल रहा है मगर ममता बनर्जी चुप्पी साधे हुए हैं। उनकी चुप्पी से साफ है कि इन घटनाओं में उनकी भी भागीदारी है। नड्डा ने कहा कि बंगाल में लोगों पर हमलों के साथ ही महिलाओं को भी निशाना बनाया जा रहा है और घरों और दुकानों में लूटपाट की घटनाएं हो रही हैं। उन्होंने कहा कि इन घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़कर 14 तक पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि पार्टी अपने कार्यकर्ताओं के साथ खड़ी है और हम बंगाल की जनता के लिए निर्णायक मोड़ तक लड़ाई लड़ेंगे।


Dharmendra Singh

Dharmendra Singh

Next Story