Top

ममता ने कोरोना संकट पर मोदी सरकार को घेरा, 6 महीने से कोई काम नहीं, सिर्फ चुनाव पर नजरें

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा के आक्रामक चुनाव प्रचार से ममता और भाजपा के बीच में तल्खी और बढ़ती दिख रही है।

Mamata Banerjee And Narendra Modi
X

ममता बनर्जी और नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो: सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देश में व्याप्त कोरोना संकट को लेकर मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। पश्चिम बंगाल विधानसभा में मुख्यमंत्री ममता ने कहा कि पिछले 6 महीने से केंद्र सरकार के मंत्री कोई काम नहीं कर रहे थे और उनकी नजर सिर्फ बंगाल की सत्ता पर कब्जा करने पर ही टिकी हुई थी। केंद्र सरकार की इस लापरवाही के कारण ही देश में कोविड-19 का संकट इतना ज्यादा गहरा हो गया।

उन्होंने कहा कि पूरे देश में मुफ्त टीकाकरण किया जाना चाहिए। केंद्र सरकार को इस दिशा में काम करना चाहिए, क्योंकि उसके लिए 30000 करोड़ रुपए कुछ नहीं है। पूरे देश में वैक्सीन का एक ठोस कार्यक्रम बनाया जाना चाहिए और सभी देशवासियों के टीकाकरण को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि टीकाकरण की जगह केंद्र सरकार संसद भवन और प्रधानमंत्री के आवास पर 50,000 करोड़ खर्च करने में जुटी हुई है।

भाजपा जनादेश को मानने को तैयार नहीं

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा के आक्रामक चुनाव प्रचार से ममता और भाजपा के बीच में तल्खी और बढ़ती दिख रही है। पश्चिम बंगाल में हिंसा की घटनाओं पर केंद्रीय गृह मंत्रालय की टीम भेजने पर भी ममता ने हमला बोला है। उन्होंने कहा कि मेरे शपथ लेने के 24 घंटे के भीतर ही केंद्रीय टीम बंगाल भेज दी गई। सच्चाई तो यह है कि भाजपा जनादेश को मानने के लिए तैयार ही नहीं है।

एक प्रेस काॅन्फ्रेंस के दौरान ममता बनर्जी (फाइल फोटो: सोशल मीडिया)


भाजपा पर फर्जी खबरें फैलाने का आरोप

उन्होंने कहा कि मैंने हिंसा की घटनाओं का कभी समर्थन नहीं किया है, लेकिन भाजपा की ओर से फर्जी खबरें और फर्जी वीडियो के जरिए लोगों को गुमराह किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि चुनाव जीतने में नाकाम रहने के बाद भाजपा हिंसा भड़काने में जुटी हुई है। उन्होंने सांप्रदायिक उकसावे वाली गतिविधियों पर सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी दी।

चुनाव आयोग ने की भाजपा की मदद

उन्होंने चुनाव आयोग पर एक बार फिर हमला बोलते हुए कहा कि चुनाव आयोग पूरी तरह भाजपा की मदद करने में जुटा हुआ था और अगर आयोग ने सीधे-सीधे भाजपा की मदद न की होती तो वह 30 सीटें भी जीतने में कामयाब नहीं हो पाती। उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान निर्वाचन आयोग के सामने कई स्थानों पर गड़बड़ी की गई मगर आयोग मूकदर्शक बना रहा।

सरकार की लापरवाही से फैला कोरोना

ममता ने दावा किया कि केंद्र सरकार ने पिछले 6 महीने के दौरान कोई काम नहीं किया। केंद्र सरकार के इस रवैये के कारण ही कोरोना ने पूरे देश को जकड़ लिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के मंत्रियों का पूरा ध्यान केवल पश्चिम बंगाल चुनाव पर ही लगा हुआ था। बंगाल में डबल इंजन की सरकार बनाने के लिए उन्होंने पूरे देश को बर्बादी की कगार पर ला खड़ा किया।

प्रेस काॅन्फ्रेस को संबोधित करतीं ममता बनर्जी (फाइल फोटो: सोशल मीडिया)

चुनाव के बाद बढ़ी और तल्खी

भाजपा और ममता बनर्जी के रिश्ते पहले ही तल्खी वाले रहे हैं मगर इस बार के विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा और ममता के बीच तल्खी और बढ़ गई है। विधानसभा चुनाव में बाजी मारने के लिए इस बार भाजपा ने पूरा दमखम लगाया था मगर ममता बनर्जी ने अपनी मजबूत पकड़ साबित करते हुए राज्य की 213 विधानसभा सीटों पर कब्जा कर लिया।

हिंसा की घटनाओं से बढ़ी तनातनी

चुनाव में अपनी ताकत दिखाने के बाद ममता बनर्जी ने पहले की तरह ही हमलावर रवैया अपनाए रखा है और वे लगातार केंद्र सरकार के खिलाफ हमला बोलने में जुटी हुई हैं। राज्य में हिंसा की घटनाओं से भाजपा और ममता के बीच तनातनी और बढ़ गई है। भाजपा का आरोप है कि राज्य प्रायोजित हिंसा में अभी तक 16 लोग मारे जा चुके हैं और हिंसा की घटनाओं में शामिल लोगों के खिलाफ राज्य सरकार की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।



Dharmendra Singh

Dharmendra Singh

Next Story