×

बिहार विधानसभा में वंदे मातरम गाने का एआईएमआईएम के विधायक ने किया विरोध

बिहार विधानसभा में शीतकालीन सत्र के दौरान राष्ट्रगीत का विरोध होने के बाद अब बजट सत्र के शुरू होने से पहले भी एआईएमआईएम ने विधानसभा में राष्ट्रगीत गाने का किया विरोध।

Bishwa Maurya
Updated on: 16 Feb 2022 5:05 PM GMT
बिहार विधानसभा में वंदे मातरम गाने का एआईएमआईएम के विधायक ने किया विरोध
X

बिहार विधानसभा (फाइल तस्वीर)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

बिहार। बिहार विधानसभा में राष्ट्रीय गीत को लेकर एक बार फिर विवाद सामने आने लगा है। बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) में आगामी 25 फरवरी से बजट सत्र (Budget Session) की शुरुआत होना है। बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा (Vijay Kumar Sinha) ने हाल ही में कहा था कि बजट सत्र की शुरुआत राष्ट्रगीत से ही होगी, वहीं इसका समापन भी राष्ट्रगीत के साथ ही किया जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष के इसी बयान को लेकर एआईएमआईएम के विधायक और बिहार एआईएमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष अख्तरुल इमान (Akhtarul Iman) ने विरोध दर्ज किया है।

मुझे राष्ट्रगीत गाने से है दिक्कत

विधानसभा अध्यक्ष के राष्ट्रगीत वाले बयान पर विरोध दर्ज कराते हुए कि एआईएमआईएम के विधायक अख्तरुल इमान ने कहा एनडीए के पास बहुमत है, ताकत है, वह इस तरह के फैसले ले सकते हैं। मुझे राष्ट्रगान गाने से कोई दिक्कत नहीं है। मुझे राष्ट्रगीत गाने से दिक्कत होती है। अख्तरुल का कहना है कि राष्ट्रगीत वंदे मातरम (Vande Matram) में कई तरह की ऐसी चीजें हैं जो उनके मजहब में नहीं है करते। उन्होंने कहा एनडीए को सभी धर्मों और समुदायों का सम्मान करना चाहिए जिससे लोकतंत्र की खूबसूरती बनी रहे।

इससे पहले भी हुआ था राष्ट्रगीत का विरोध

गौरतलब है कि बिहार में राष्ट्रगीत वंदे मातरम के विरोध का यह कोई पहला मामला नहीं है। बिहार में इससे पहले भी एआईएमआईएम के विधायकों ने शीतकालीन सत्र में भी राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम का विरोध किया था। उस वक्त बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने यह कहा था कि सत्र के शुरू होने के पहले और समाप्त होने पर भी राष्ट्रगान गाया जाएगा। उस वक्त लोगों ने राष्ट्रगान गाया भी था लेकिन सत्र के अंत में विधानसभा में लोगों से राष्ट्रगीत गवाया गया। जिस पर एआईएमआईएम के विधायकों ने विरोध करते हुए कहा कि इससे इस्लाम धर्म आहत होती है, यह एक गलत परंपरा है और इसे वापस ले लेना चाहिए।

Bishwa Maurya

Bishwa Maurya

Next Story