Top

कोरोना जांच में फंसी प्रेग्नेंट महिला: डिलीवरी में हुआ ऐसा, पूरे अस्पताल में मचा हड़कंप

ऐसा ही मामला अस्पताल में डिलीवरी के लिए आई एक प्रेग्नेंट महिला के साथ भी हुआ। घंटों जाम में फंसी प्रसूता को जब परिजन डिलीवरी के लिए आरा सदर अस्पताल लाए तो अस्पताल के धीमी गति ने दर्द से छटपटाती  प्रेग्नेंट महिला को इमरजेंसी वार्ड के परिसर में ही शिशु को जन्म देने पर मजबूर कर दिया। 

Suman

SumanBy Suman

Published on 29 Sep 2020 6:01 AM GMT

कोरोना जांच में फंसी प्रेग्नेंट महिला: डिलीवरी में हुआ ऐसा, पूरे अस्पताल में मचा हड़कंप
X
घंटों जाम में फंसी प्रसूता को जब परिजन डिलीवरी के लिए आरा सदर अस्पताल लाए तो अस्पताल के धीमी गति ने दर्द से छटपटाती  प्रेग्नेंट महिला को इमरजेंसी वार्ड के परिसर में ही शिशु को जन्म देने पर मजबूर कर दिया। 
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आरा: कहते है जन्म और मृत्यु किसी का इंतजार नहीं करता है। इसके लिए प्रक्रिया में भले चले लेकिन जिसे जब आना है वो आएगा और जाना है वो जाएगा। लेकिन कभी कभी प्रसूता को व्यवस्था में फंसना पड़ता तो वो घटना घटती है जो चर्चा का विषय होती है। प्रशासन की लापरवाही आम लोगों की जिंदगी पर कभी कभी भारी पड़ती है। कुछ ऐसा ही बिहार के आरा में देखने को मिला।

सड़क जाम और अस्पताल के लचर सिस्टम के कारण कई लोगों की जिंदगियां भी दांव पर लगती है। ऐसा ही मामला अस्पताल में डिलीवरी के लिए आई एक प्रेग्नेंट महिला के साथ भी हुआ। घंटों जाम में फंसी प्रसूता को जब परिजन डिलीवरी के लिए आरा सदर अस्पताल लाए तो अस्पताल के धीमी गति ने दर्द से छटपटाती प्रेग्नेंट महिला को इमरजेंसी वार्ड के परिसर में ही शिशु को जन्म देने पर मजबूर कर दिया।

यह पढ़ें....खेल निदेशालय में बवाल: यूपी में शुरू हुआ प्रदर्शन, कॉन्ट्रैक्ट कोच की ये मांग

हड़कंप मच गया

बच्चे के जन्म होने की खबर प्रसूति वार्ड की नर्स और चिकित्सकों को लगी। तो तुरंत इमरजेंसी के बाहर से प्रसूता को ले जाकर प्रसूति वार्ड में भर्ती कराया दिया। उस समय अस्पताल परिसर में कुछ देर के लिए हड़कंप मच गया था।

child सोशल मीडिया से

परिजन ने बताई पूरी बात

रूबी देवी के पति अजय कुमार ने बताया कि दोपहर में घर पर डिलीवरी का दर्द शुरू हुआ था। इसके बाद अस्पताल लाते समय जाम में फंसना पड़ा। इससे अस्पताल लाने में देरी हो गई। जब अस्पताल पहुंचे तो वहां सबसे पहले कोरोना जांच कराने की बात हुई, जब जांच के ले जा रहे थे। तभी उसे काफी दर्द होने लगा और उसने इमरजेंसी परिसर में ही बच्चे को जन्म दे दिया।

यह पढ़ें....रॉकेट से बड़ा हमला: कांप उठी धरती, यहां लग गये लाशों के ढेर, शवों की गिनती जारी

bhojpur सोशल मीडिया से

जाम और लापरवाही

ये मामला शहर के लिए कोई नई बात नहीं है। यहां के लोगों के लिए अब जाम और लापरवाही नियति बन गई है। सदर अस्पताल के प्रभारी डीएस डॉ प्रतीक ने कहा कि पेशेंट लेट से अस्पताल पहुंची थी, फिर भी सदर अस्पताल के स्टॉफ की ओर से मरीज को सहायता दी प्रदान की गई ।

Suman

Suman

Next Story