Top

RJD को झटका: प्रेस कॉन्फ्रेंस में टूटा महागठबंधन, इस पार्टी ने की बगावत

राजद अपने हिस्से की सीटों में से मुकेश साहनी की पार्टी वीआईपी और झारखंड मुक्ति मोर्चा को भी सीटें देगा। इसके अलावा वाल्मीकि नगर लोकसभा सीट कांग्रेस के हिस्से में आई है।

Suman

SumanBy Suman

Published on 3 Oct 2020 3:19 PM GMT

RJD को झटका: प्रेस कॉन्फ्रेंस में टूटा महागठबंधन, इस पार्टी ने की बगावत
X
ऐसी स्थिति में मेरे लिए महागठबंधन में बने रहना संभव नहीं है। उन्होंने रविवार को अपनी पार्टी की भावी रणनीति का खुलासा करने का एलान भी किया। इसके बाद साहनी प्रेस कॉन्फ्रेंस से उठकर चले गए।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना। महागठबंधन में एकजुटता दिखाने और सीटों के बंटवारे का एलान करने के लिए बुलाई गई प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही बगावत हो गई। महागठबंधन में सीट शेयरिंग के एलान के बाद विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के मुखिया मुकेश साहनी नाराज हो गए और उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ही महागठबंधन छोड़ने का एलान भी कर दिया।

समर्थकों की भारी नारेबाजी के बीच मुकेश साहनी ने कहा कि हमारी पीठ में छुरा भोंकने का काम किया गया है और इस कारण मैं महागठबंधन से बाहर जा रहा हूं। उन्होंने कहा कि मैं कल अपनी भावी रणनीति का खुलासा करूंगा। इसके बाद वे प्रेस कॉन्फ्रेंस छोड़कर निकल गए।

यह पढ़ें....हाथरस मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, जनहित याचिका दाखिल

महागठबंधन में इस तरह हुआ बंटवारा

प्रेस कॉन्फ्रेंस में राजद नेता तेजस्वी यादव ने महागठबंधन की सीटों के बंटवारे का एलान किया। तेजस्वी की ओर से की गई घोषणा के मुताबिक राजद के हिस्से में 144, कांग्रेस के हिस्से में 70, भाकपा माले के हिस्से में 19, भाकपा के हिस्से में छह और माकपा के हिस्से में 4 सीटें आई हैं।

यह भी घोषणा की गई कि राजद अपने हिस्से की सीटों में से मुकेश साहनी की पार्टी वीआईपी और झारखंड मुक्ति मोर्चा को भी सीटें देगा। इसके अलावा वाल्मीकि नगर लोकसभा सीट कांग्रेस के हिस्से में आई है।

घोषणा होते ही साहनी समर्थकों का हंगामा

तेजस्वी यादव की ओर से सीट बंटवारे की घोषणा करते ही मुकेश साहनी के समर्थकों ने हंगामा शुरू कर दिया। वीआईपी पार्टी के कार्यकर्ता तेजस्वी मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे। इसी दौरान मुकेश साहनी भी खड़े हो गए और उन्होंने कहा कि हमें विधानसभा की 25 सीटें और उपमुख्यमंत्री का पद दिए जाने का वादा किया गया था मगर हमारी पीठ में छुरा भोंकने का काम किया गया है।

उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में मेरे लिए महागठबंधन में बने रहना संभव नहीं है। उन्होंने रविवार को अपनी पार्टी की भावी रणनीति का खुलासा करने का एलान भी किया। इसके बाद साहनी प्रेस कॉन्फ्रेंस से उठकर चले गए।

सभी को साथ लेकर चलेंगे तेजस्वी

इससे पहले राजद नेता तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीट बंटवारे के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वे सभी धर्म और जाति के लोगों को साथ लेकर बिहार को तरक्की के रास्ते पर ले जाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा कि जो लोग 15 साल में राज्य के लोगों को रोजगार नहीं दे पाए, वे लोग चुनाव आने पर राज्य के लोगों को सपना दिखाने में लगे हैं। इन्हीं लोगों ने लॉकडाउन के दौरान बेरोजगारों और लाचारों का अपमान करने के साथ ही उन पर लाठियां भी बरसाईं। ऐसे लोगों से बिहार के लोगों को अब सतर्क रहना होगा।

बिहार में अपराधों की बाढ़

राजद नेता ने कहा कि बिहार में अपराधों की बाढ़ आ गई है और हर 4 घंटे में राज्य में एक रेप होता है जबकि 5 घंटे में हत्या की एक वारदात होती है। उन्होंने खुद को ठेठ बिहारी बताते हुए कहा कि हम जो वादा करते हैं उसे पूरा करते हैं। मेरा डीएनए काफी शुद्ध है।

mukesh sahani सोशल मीडिया से

उन्होंने कहा कि जब पानी एक जगह ठहर जाता है तो वह बीमारी फैलाता है और मौजूदा सरकार की हालत वही हो गई है। उन्होंने कहा कि विकास के लिए बिहार को नदी के बहते हुए जल की तरह विकल्प चाहिए।

यह पढ़ें..5 दिन तक होगी भारी बारिश: इन राज्यों में जमकर बरसेंगे बादल, IMD का अलर्ट

कांग्रेस की मुराद हो गई पूरी

बिहार में सीटों के बंटवारे में कांग्रेस की मुराद पूरी हो गई है क्योंकि उसे 70 विधानसभा सीटों के साथ ही लोकसभा की एक सीट भी मिल गई है जहां उपचुनाव होना है। पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने 41 विधानसभा सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे मगर इस बार उसने अपनी मांग बढ़ा दी थी।

लालू के दखल से निकला फॉर्मूला

राजद की ओर से कांग्रेस को काफी महत्व दिया गया है और मांग के मुताबिक 70 सीटें कांग्रेस के कोटे में दी गई हैं। बदले में कांग्रेस की ओर से सीएम के चेहरे के रूप में तेजस्वी यादव का नेतृत्व स्वीकार करने पर सहमति जताई गई है। जानकारों का कहना है कि लालू प्रसाद यादव के दखल के बाद महागठबंधन में सीटों का यह फार्मूला निकाला गया है।

रिपोर्टर अंशुमान तिवारी

Suman

Suman

Next Story