×

Kurhani Byelection Result 2022: बीजेपी ने जदयू को हराया, सुशील मोदी ने नीतीश से मांगा इस्तीफा

Kurhani Byelection Result 2022: बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में कुढ़नी विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी ने जीत दर्ज की है। बीजेपी के केदार गुप्ता ने जदयू के मनोज कुशवाहा को कांटे की लड़ाई में 3632 वोटों से हरा दिया।

Krishna Chaudhary
Published on: 8 Dec 2022 1:06 PM GMT
Bihar News In Hindi
X

बीजेपी प्रत्याशी केदार गुप्ता 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Kurhani Byelection Result 2022: देश की राजनीति में आज चुनाव नतीजों का दिन है। गुजरात (Gujarat Assembly elections) और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव (Himachal Pradesh Assembly elections) के नतीजों के अलावा पांच अन्य राज्यों में हुए उपचुनाव के नतीजे भी आए हैं।

कुढ़नी सीट पर उपचुनाव में बीजेपी ने जीत की दर्ज

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में स्थित कुढ़नी विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी ने जीत दर्ज की है। बीजेपी के केदार गुप्ता ने जदयू के मनोज कुशवाहा को कांटे की लड़ाई में 3632 वोटों से हरा दिया। वोटों की गिनती 23 राउंड तक चली, जिसमें 12 बार आंकड़ों ने पलटी मारी।

पहले 4 राउंड तक बीजेपी आगे चल रही थी। पांचवे राउंड में जदयू आगे निकल गई। छठे राउंड में बीजेपी ने फिर जदयू को पछाड़ दिया। इसके बाद 9वें राउंड में महागठबंधन की ओर उतरे जदयू उम्मीदवार ने फिर से बीजेपी को पछाड़ दिया। 19वें राउंड से बीजेपी ने 56 वोटों की बढ़त बनाई, 21वें राउंड तक ये आंकड़ा 3 हजार को पार गया और जदयू प्रत्याशी मनोज कुशवाहा सेंटर से बाहर निकल गए।

सुशील मोदी ने मुख्यमंत्री से मांगा इस्तीफा

कुढ़नी में जदयू की हार पर बीजेपी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमलावर हो गई है। पूर्व डिप्टी सीएम और राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने सीएम नीतीश कुमार से इस्तीफा मांगा है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के महागठबंधन ने कुढ़ी में करोड़ों रूपये पानी की तरह बहाए। सारे हथकंडे अपना लिए, फिर भी मतदाताओं ने बीजेपी की जीत पक्की कर की।

अपनों के निशाने पर आए नीतीश

कुढ़नी में मिली हार को लेकर सीएम नीतीश कुमार अपने गठबंधन सहयोगियों के निशाने पर आ गए हैं। महागठबंधन में शामिल कांग्रेस के सीनियर नेता अजीत शर्मा ने इस हार के लिए शराबबंदी कानून को जिम्मेदार ठहराया है। पूर्व सीएम जीतनराम मांझी की पार्टी हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने भी महागठबंधन को मिली हार के लिए शराबबंदी और ताड़ी पर लगाए गए प्रतिबंध को जिम्मेदार ठहराया।

बता दें कि साल 2020 के विधानसभा चुनाव में केदार गुप्ता मात्र 712 वोटों से राजद उम्मीदवार अनिल सहनी से हार गए थे। सहनी को एलटीसी घोटाले में सजा मिलने के कारण उनकी विधायकी रद्द कर दी गई थी। चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, केदार गुप्ता को 42 प्रतिशत वोट मिले हैं। इस चुनाव में वीआईपी के नीलाभ कुमार 10 हजार वोट पाकर तीसरे नंबर पर रहे।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story