Top

Patna AIIMS में बच्चों पर वैक्सीन का ट्रायल शुरू, 3 बच्चों को दी गई पहली डोज

coronavirus: पटना एम्स में कोवैक्सीन का ट्रायल बच्चों पर शुरू कर दिया गया है। 3 बच्चों को टीके की पहली डोज दी गई है।

Network

NetworkReporter NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 3 Jun 2021 7:00 AM GMT

Patna AIIMS में बच्चों पर वैक्सीन का ट्रायल शुरू, 3 बच्चों को दी गई पहली डोज
X

(कॉन्सेप्ट फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Corona Vaccine Trial On Children: देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) के जारी कहर के बीच सरकारें कोविड वैक्सीनेशन (Covid-19 Vaccination) पर जोर दे रही हैं। फिलहाल देश में तीसरे चरण (Third Phase Vaccination) का वैक्सीनेशन जारी है। केंद्र से लेकर राज्य सरकारें इस पर फोकस कर रही हैं कि कम समय में ज्यादा से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हो सके।

वहीं, देश में जारी कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच वैज्ञानिकों ने तीसरी लहर को लेकर भी चेतावनी जारी कर दी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि तीसरी लहर में सबसे ज्यादा बच्चे प्रभावित होंगे। ऐसे में तीसरी लहर से पहले बच्चों के वैक्सीन पर काम शुरू कर दिया गया है।

पटना एम्स में शुरू हुआ बच्चों पर वैक्सीन का ट्रायल

इसी क्रम में पटना में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (Patna Aiims) में बुधवार (2 जून 2021) को बच्चों के ऊपर वैक्सीन की ट्रायल का काम शुरू हुआ है। मिली जानकारी के मुताबिक, पटना एम्स में तीन बच्चों को पहले दिन भारत बायोटेक की को-वैक्सीन की पहली डोज दी गई है।

बताया जा रहा है कि स्वेच्छा से टीके के क्लीनिकल ट्रायल के लिए आने वाले 15 बच्चों में से तीन पूरी तरह से मेडिकल जांच के बाद वैक्सीन की पहली डोज लेने वाले पहले व्यक्ति बने। ट्रायल के लिए पहले दिन 15 बच्चे पहुंचे थे, जिनमें से 3 बच्चों को पहली डोज़ लेने के लिए फिट पाया गया।

(सांकेतिक फोटो साभार- सोशल मीडिया)

RT-PCR और एंटीबॉडी टेस्ट के बाद दी गई पहली डोज

जो बच्चे ट्रायल के लिए पहुंचेथे, उनका सबसे पहले आरटी पीसीआर और एंटीबॉडी टेस्ट हुआ और फिर 3 बच्चों को पूरी तरह से फिट पाए जाने के बाद उनको वैक्सीन की पहली डोज दी गई। वैक्सीन की पहली खुराक देने के बाद 2 घंटे तक उनकी सेहत का अवलोकन किया गया, जिसमें किसी भी बच्चे पर वैक्सीन का साइड इफेक्ट नहीं देखा गया। अब इन बच्चों को वैक्सीन की दूसरी खुराक 28 दिनों के बाद दी जाएगी।

मिली जानकारी के मुताबिक, पटना एम्स में अगले कुछ दिनों में वैक्सीन के ट्रायल में दो से 18 साल तक के 100 बच्चों को शामिल करने का लक्ष्य तय किया गया है।

भारत सरकार ने दी थी ट्रायल की मंजूरी

जानकारी के लिए आपको बता दें कि तीसरी लहर की चेतावनी के बीच भारत सरकार ने बच्चों पर कोवैक्सीन के ट्रायल की मंजूरी दे दी थी। पटना एम्स समेत देश के कई बड़े अस्पताल में वैक्सीन का ट्रायल होगा, जिसमें देश के कुल 525 बच्चों को शामिल किया जाएगा। ट्रायल के दौरान बच्चों को 28 दिन के अंतराल पर वैक्सीन की दो डोज दी जाएगी। भारत बायोटेक के सूत्रों के मुताबिक, ट्रायल में सबसे कम उम्र का बच्चा 2 साल का होगा।

जुलाई तक चलेगा वैक्सीन का ट्रायल

गौरतलब है कि देश के अलग अलग सेंटर्स पर 2 से 18 साल के बच्चो पर वैक्सीन का ट्रायल शुरू कर दिया गया है। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का दूसरे और तीसरे फेज का ट्रायल जून में शुरू होगा और जुलाई के मध्य में खत्म होगा।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story