Top

कोरोना पर बिहार में हाईवोल्‍टेज ड्रामा, 40 ड्राइवरों के साथ पप्‍पू यादव तैयार

राजीव प्रताप रूडी के दफ्तर में मिली एंबुलेंस का मामला गरमाता जा रहा है। शनिवार को फिर पप्पू यादव ने पलटवार किया है।

Akhilesh Tiwari

Akhilesh TiwariWritten By Akhilesh TiwariAshiki PatelPublished By Ashiki Patel

Published on 8 May 2021 9:12 AM GMT

Pappu Yadav
X

Photo- Screenshot of video tweet by Pappu Yadav

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्‍ली: भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूढ़ी अपने ही बयान में फंसते नजर आ रहे हैं। दर्जनों एंबुलेंस को अपने घर पर खड़ा रखने वाले राजीव प्रताप रूढ़ी ने शुक्रवार की देर शाम कहा था कि ड्राइवर नहीं होने की वजह से एंबुलेंस को उनके घर पर खड़ा रखा गया था। इसके जवाब में पप्‍पू यादव दो दर्जन ड्राइवरों को लेकर मीडिया के सामने आ गए और कहा कि सभी एंबुलेंस के लिए वे ड्राइवर देने को तैयार हैं। भाजपा सांसद के घर पर खड़ी एंबुलेंस को बिहार के गांवों में तड़प रहे लोगों की जान बचाने के लिए लगाया जाए। मीडिया से मुताबिक पप्‍पू यादव ने कहा कि वह सरकार को ड्राइवरों की सूची सौंपने जा रहे हैं।

बिहार की जन अधिकार पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष व पूर्व सांसद पप्‍पू यादव ने शुक्रवार को सारण से भाजपा सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूढी के घर पर धावा बोला था। उनके घर और कार्यालय परिसर में खड़ी दर्जनों एंबुलेंस बरामद कर सवाल उठाया था कि सांसद विकास निधि से इन एंबुलेंस को खरीदा गया और अब इन्‍हें छुपाकर रखा गया है। जब प्रदेश की जनता को अस्‍पताल पहुंचने के लिए एंबुलेंस चाहिए तो उसे नहीं दिया जा रहा है। सांसद विकास निधि का पैसा देश की जनता का पैसा है। बिहार की जनता के टैक्‍स का पैसा है। इसकी जांच होनी चाहिए कि आखिर भाजपा सांसद ने किस अधिकार के तहत जनता के पैसे से खरीदी गई एंबुलेंस को अपने कब्‍जे में कर रखा है।

पप्‍पू यादव के घेरने पर भाजपा सांसद रूढी ने सोशल मीडिया पर बयान दिया कि इन एंबुलेंस को चलाने के लिए ड्राइवर नहीं हैं। बगैर ड्राइवर के कैसे एंबुलेंस चलेगी। अगर पप्‍पू यादव के पास ड्राइवर हैं तो वह एंबुलेंस ले जाएं। इसके जवाब में पप्‍पू यादव ने कहा कि भाजपा सांसद की चुनौती स्‍वीकार है। सभी 70 एंबुलेंस के लिए मैं ड्राइवर मुहैया करा रहा हूं। सारण, पटना जहां एंबुलेंस चलाना चाहते हैं ले‍ जाइए। लेकिन जनता की सेवा करिए। कोरोना मरीज को निशुल्‍क एंबुलेंस दी जाए।

इसके बाद पप्‍पू यादव ने शनिवार की दोपहर में मीडिया के सामने दो दर्जन ड्राइवर पेश किए और कहा कि अन्‍य एंबुलेंस के लिए भी ड्राइवर देंगे। अभी 40 ड्राइवर हमारे पास हैं। इनकी सूची प्रदेश सरकार को देने जा रहे हैं।

केंद्र सरकार के कौशल विकास मिशन पर भी उठाया सवाल

पूर्व सांसद पप्‍पू यादव ने केंद्र सरकार के कौशल विकास मिशन पर भी सवाल उठाया। पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूढी और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, बिहार के भाजपा नेता सुशील मोदी की फोटो जारी करते हुए उन्‍होंने बताया कि छपरा में 17 अक्‍टूबर 2016 को इन नेताओं ने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत चालक प्रशिक्षण संस्‍था का उद्घाटन किया था।

उन्‍होंने पूछा कि क्‍या पांच साल में इस संस्‍था ने 70 ड्राइवर भी तैयार नहीं किए जो भाजपा सांसद के घर पर रखी एंबुलेंस को चला सकें। उन्‍होंने अपने सारे सवाल और वीडियो सोशल मीडिया पर भी साझा किए हैं।

Ashiki

Ashiki

Next Story