Top

कोरोना हुआ बेकाबू: पटना में सेना ने संभाली कमान, कोरोना मरीजों को मिलेगी राहत

सेना की मेडिकल टीम वायु सेना (Indian Air Force) के विशेष विमान से आकस्मिक चिकित्सा उपकरणों के साथ पटना पहुंच गई है।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 7 May 2021 9:22 AM GMT

कोरोना हुआ बेकाबू: पटना में सेना ने संभाली कमान, कोरोना मरीजों को मिलेगी राहत
X

पटना पहुंचे सेना के जवान (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: बिहार की राजधानी पटना (Patna) में कोरोना संक्रमित मरीजों के बेहतर इलाज के लिए बिहटा में कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) हॉस्पिटल की कमान आर्म्ड फोर्स मेडिकल सर्विस (AFMS) और बिहार रेजिमेंट के जवानों ने संभाल ली है। गुरुवार को सेना की मेडिकल टीम वायु सेना (Indian Air Force) के विशेष विमान से आकस्मिक चिकित्सा उपकरणों के साथ पटना पहुंच गई है। इससे पहले बुधवार को भी सेना के डॉक्टर, पारा मेडिकल स्टाफ और नर्सिंग स्टाफ और जवान पटना पहुंचे थे।

सेना के मोर्चा संभालने के बाद अब ESIC हॉस्पिटल को अगले दो से तीन दिनों में 500 बेड का कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल (Corona Dedicated Hospital) बना दिया जाएगा। जिसमें 100 बेड का आईसीयू होगा। इस अस्पताल में आईसीयू, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन और मॉनिटरिंग उपकरण के साथ साथ कोरोना से जुड़ी सभी अत्याधुनिक सुविधाएं मौजूद रहेंगी। बता दें कि पहले इस अस्पताल में 100 बेड था। ESIC अस्पताल में तेजी से काम शुरू कर दिया है।

ESIC अस्पताल (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

मरीजों को मिलेगी बड़ी राहत

सेना के कमान संभालने के बाद अस्पताल में तेजी से काम शुरू कर दिया गया है। जिसके बाद कहा जा रहा है कि कोरोना संकट से जूझ रहे बिहार को बड़ी राहत मिलेगी। वहीं, सेना के अधिकारियों ने ESIC अस्पताल के प्रबंधन के साथ बैठक कर इलाज की सुविधाओं और अन्य चीजों पर भी विशेष चर्चा की है।

बता दें कि कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते प्रकोप के चलते अस्पतालों में मरीजों (Covid Patients) के लिए जगह कम पड़ती जा रही है। राजधानी पटना में सरकारी से लेकर निजी अस्पतालों में मरीजों को इलाज के लिए भटकना पड़ रहा है। ऐसे में इस हॉस्पिटल की जरूरत महसूस की जा रही थी। जिसके बाद बिहटा में 500 बेड का कोविड डेडिकेटेड अस्पताल (Corona Dedicated Hospital) बनाया जा रहा है, ताकि मरीजों को राहत मिल सके।

Shreya

Shreya

Next Story