Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

नेता अगवा: पार्टी मीटिंग मे होना था शामिल, सरेआम अपहरण से पटना में हड़कंप

भारतीय सबलोग पार्टी के नेता रंजीत कुमार पाडेय 28 फरवरी को किदवईपुरी के पार्टी कार्यालय में आयोजित बैठक में शामिल होने आए थे, जिस वक़्त उनका अपहरण कर लिया गया।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 1 March 2021 4:21 AM GMT

नेता अगवा: पार्टी मीटिंग मे होना था शामिल, सरेआम अपहरण से पटना में हड़कंप
X
बैठक में शामिल होने आए नेता का अपहरण, जांच में जुटी पुलिस
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: भारतीय सबलोग पार्टी के नेता रंजीत कुमार पाडेय 28 फरवरी को किदवईपुरी के पार्टी कार्यालय में आयोजित बैठक में शामिल होने आए थे, जिस वक़्त उनका अपहरण कर लिया गया। अपराधियों ने चकारम और आयकर गोलंबर के बीच इस काम को अंजाम दिया।

बैठक के बाद पैदल ही निकले थे नेता

बता दें, रंजीत पांडेय औरंगाबाद के ओबरा के रहने वाले है। अपराधियों ने बड़ी ही प्लानिंग के साथ इस अपहरण को अंजाम दिया जब वह अपनी पार्टी की बैठक खत्म कर एक साथी के साथ पैदल ही आयकर गोलंबर की तरफ जा रहे थे। तभी स्कॉर्पियो में सवार चार लोगों ने उन्हें अगवा कर लिया।

इस वार्दार की सुचना मिलते ही कोतवाली और बुद्धा कॉलोनी थाने की पुलिस वारदात वाली जगह पर पहुंची। जिसके बाद से पुलिस इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरा से स्कॉर्पियो की पहचान करने में जुटी है।

सफ़ेद रंग की स्कॉर्पियो में अपरहण

एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा का कहना है कि सभी एंगल से छानबीन की जा चुकी है। रंजीत पांडेय के साथ जा रह रविरंजन ने बताया कि एक सफ़ेद रंग की स्कॉर्पियो उनके सामने आकर रुकी, जिसमें से चार लोग उतरे और रंजीत को जबरन उठा कर गाड़ी में बैठकर ले गए।

रविरंजन ने शोर मचाना शुरू किया और खुद को छुड़ाकर भागने लगे। जिसके बाद वह भागकर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व सांसद अरुण कुमार के मोबाइल पर इस घटना की सूचना दी। साथ ही युवा प्रदेश अध्यक्ष को भी तत्काल इस घटना की भी जानकारी दी गई।

ये भी पढ़ें : विवाहिता को घर से उठा ले गया पूर्व पंचायत सदस्य, हथियार के बल पर किया रेप

फोन हुआ ऑफ

पुलिस की जांच में पता चला कि रंजीत का अपहरण होते ही उनका फोन ऑफ हो गया। जिसके बाद पुलिस कार्यालय से लेकर आयकर गोलंबर के बीच लगे सीसीटीवी कैमरे खंगालने में जुट गई है। इस मामले की जांच के लिए 100 डायल और रंगदारी सेल की टीम को विशेष तौर पर लगाया गया है।

ये भी पढ़ें : बिहार में फिर गोलीकांडः कांग्रेस विधायक के भतीजे की हत्या, पार्टी में हड़कंप

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Monika

Monika

Next Story