Top

गेट पर तड़पते हुए मरा मरीज: जांच करवाने के लिए चिल्लाता रहा, कोई नहीं था सुनने वाला

बिहार के सीवान में रेडक्रॉस सोसाइटी के मुख्य दरवाजे पर कोरोना की जांच करवाने के लिए एक मरीज अखिलेश कुमार आए।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 26 April 2021 5:06 PM GMT

सीवान का है, जहां पर रेडक्रॉस सोसाइटी के मुख्य दरवाजे पर कोरोना की जांच करवाने के लिए एक मरीज अखिलेश कुमार आए। जिनकी सोमवार को मौत हो गई। भाई लगातार गुहार लगाता रहा।
X

तड़पता रहा मरीज(फोटो-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सीवानः पूरे देश में एक तरफ लोग महामारी की भीषण आफत से जूझ रहे हैं, दूसरी तरफ व्यवस्था और सिस्टम के ध्वस्त पड़ने से टूटते जा रहे हैं। ऐसे में ताजा मामला सीवान का है, जहां पर रेडक्रॉस सोसाइटी के मुख्य दरवाजे पर कोरोना की जांच करवाने के लिए एक मरीज अखिलेश कुमार आए। जिनकी सोमवार को मौत हो गई। बताया जा रहा कि इस घटना के बाद मृतक के भाई अशोक कुमार ने सदर अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

जांच करवाने आए अखिलेश जीरादेई का रहने वाला था। उसको सांस लेने में काफी तकलीफ हो रही थी। तभी बेहतर इलाज हो सके इसलिए उसका भाई उसे सीवान ले लाया। वहीं सदर अस्पताल पहुंचने के बाद यहां चिकित्सक ने भर्ती नहीं किया।चिल्लाता रहा तड़पता रहा

ऐसे में डॉक्टर का कहना था कि पहले कोरोना की जांच कराकर लाएं इसके बाद यहां भर्ती लिया जाएगा। लेकिन मरीज के पास पहले से कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव थी लेकिन इसे चिकित्सक नहीं मान रहे थे।

वहीं इस दौरान मरीज तड़पता रहा लेकिन कोई सुनने वाला नहीं था। साथ आया उसका भाई लगातार गुहार लगाता रहा। इस पर चिकित्सक का कहना था कि रेडक्रॉस सोसाइटी से फिर से कोरोना की जांच करा कर लाएं उसके बाद इलाज के लिए भर्ती किया जाएगा या फिर देखा जाएगा।

आखिरी में जब जांच कराने के लिए रेडक्रॉस सोसाइटी पहुंचा, तो यहां मेन गेट पर ही अखिलेश की तड़पकर मौत हो गई। इस बारे में जब सदर एसडीएम अभिषेक कुमार चंदन को जानकारी मिली, तो वे तुंरत मौके पर पहुंचे। लेकिन उन्होंने किसी तरह की जानकारी मीडिया को नहीं दी और वहां से चले गए।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story