Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

तेजस्वी बोले: बिहार की स्थिति गंभीर, लाशों के ढेर पर नहीं होने देंगे चुनाव

उत्तरी बिहार की जनता बाढ़ से कराह रही है मगर नीतीश सरकार चैन की नींद सो रही है। मधुबनी के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद तेजस्वी ने कहा कि हम लाशों के ढेर पर चुनाव नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि बिहार में कोरोना का संक्रमण काफी गंभीर हो चुका है और ऐसे में विधानसभा चुनाव कराने का कोई मतलब नहीं है।

Suman

SumanBy Suman

Published on 22 July 2020 3:30 PM GMT

तेजस्वी बोले: बिहार की स्थिति गंभीर, लाशों के ढेर पर नहीं होने देंगे चुनाव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना बिहार में गहराते बाढ़ के संकट के बीच राष्ट्रीय जनता दल के नेता और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि उत्तरी बिहार की जनता बाढ़ से कराह रही है मगर नीतीश सरकार चैन की नींद सो रही है। मधुबनी के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद तेजस्वी ने कहा कि हम लाशों के ढेर पर चुनाव नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि बिहार में कोरोना का संक्रमण काफी गंभीर हो चुका है और ऐसे में विधानसभा चुनाव कराने का कोई मतलब नहीं है।

यह पढ़ें...नौकर ही नौकरी: इन योजनाओं के तहत जिले में ही मिल रहा रोजगार, आप भी जानें

विपक्ष ने चुनाव आयोग को लिखी चिट्ठी

बिहार में इस साल अक्टूबर-नवंबर के दौरान विधानसभा के चुनाव होने हैं और विपक्षी दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर चुनाव टालने की मांग की है। हालांकि अभी तक इस बाबत चुनाव आयोग की ओर से कोई आधिकारिक एलान नहीं किया गया है। जानकार सूत्रों का कहना है कि चुनाव आयोग भी स्थिति के मूल्यांकन में जुटा हुआ है।

ऐसे हालात में लोग कैसे देंगे वोट

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने बुधवार को मधुबनी के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में बिहार की स्थिति काफी भयावह है। विभिन्न जिलों में गांव के गांव बाढ़ से तबाह हो गए हैं। ऐसी स्थिति में चुनाव कराने का कोई मतलब नहीं रह जाता। चुनाव आयोग को बिहार की स्थितियों पर गौर फरमाना चाहिए क्योंकि ऐसी स्थिति में लोग कैसे वोट देने जाएंगे।

लोगों की जान पर मंडरा रहा संकट

तेजस्वी ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता लोगों की जान बचाना है क्योंकि जान है तभी जहान है। उन्होंने कहा कि जो लोग चुनाव कराना चाहते हैं, वे चाहते हैं कि लोग वोट करने आएं और उसी के श्मशान घाट जाएं मगर हम लाशों के ढेर पर विधानसभा का चुनाव नहीं होने देंगे। बिहार में बाढ़ की स्थिति काफी गंभीर हो चुकी है और ऐसे हालात में सोशल डिस्टेंसिंग की बात तो दूर लोगों को जान बचाने की मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा।

यह पढ़ें...नगमा से लव डोना से शादीः कुछ अलग ही है बंगाल टाइगर की स्टोरी, क्या है सस्पेंस

तेजस्वी ने नीतीश पर साधा निशाना

मीडिया से बातचीत के दौरान तेजस्वी ने नीतीश सरकार पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में बिहार बाढ़ में डूबा हुआ है मगर नीतीश जी की आंखों के आंसू सूख चुके हैं। नीतीश को बाढ़ग्रस्त इलाकों की कोई चिंता नहीं है। वे अपनी कुर्सी बचाने के लिए वर्चुअल रैलियां अटेंड करने में जुटे हुए हैं। सही बात तो यह है कि उनमें इंसानियत नाम की चीज ही नहीं रह नहीं रह गई है और उनकी अंतरात्मा बंगाल की खाड़ी में डूब गई है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार सिद्धांतों की राजनीति करने की बात करते हैं मगर उनमें अगर जरा सी भी शर्म बची हो तो उनद अपने पद से तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए।

उत्तर बिहार में बाढ़ की स्थिति गंभीर

मौजूदा समय में उत्तर बिहार में बाढ़ की स्थिति काफी गंभीर हो गई है और कई इलाकों का संपर्क टूट गया है। इन इलाकों में रहने वाले लोगों को तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। प्रशासन की ओर से एहतियाती कदम उठाए गए हैं मगर बाढ़ग्रस्त इलाकों में लोगों तक पूरी मदद नहीं पहुंच पा रही है। इसे लेकर राज्य का सियासी माहौल गरमा रहा है और विपक्ष लगातार नीतीश सरकार पर हमलावर है।

रिपोर्टर: अंशुमान तिवारी

Suman

Suman

Next Story