Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

Adani का सार्थक मिशन, ऑक्सीजन के साथ ISO क्रायोजेनिक टैंक्स रवाना

दमन से 80 टन लिक्विड ऑक्सीजन (Oxygen) और 4 आईएसओ क्रायोजेनिक टैंक्स की पहली खेप मुंद्रा बंदरगाह तक रवाना कर दी गई है।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackChitra SinghPublished By Chitra Singh

Published on 27 April 2021 3:13 PM GMT

Adani का सार्थक मिशन, ऑक्सीजन के साथ ISO क्रायोजेनिक टैंक्स रवाना
X

अदाणी ग्रुप का सार्थक मिशन (डिजाइन फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: देश में बढ़ते कोरोना के बीच ऑक्सीजन की कमी को लेकर हर तरफ अफरा-तफरी मची हुई है। ऐसी विषम परिस्थिति अदाणी ग्रुप (Adani Group) ने एक नई पहल शुरू की है। अदाणी ग्रुप (Adani Group) की ओर से 80 टन लिक्विड ऑक्सीजन के साथ 4 आईएसओ क्रायोजेनिक टैंक्स की पहली खेप दमन से रवाना हो चुकी है।

कोविड-19 (Covid-19) पॉजिटिव मरीजों की हेल्थ रिकवरी के लिए आवश्यक मेडिकल ऑक्सीजन की कमी के मद्देनजर, अदाणी ग्रुप (Adani Group) ने दुनियाभर में ऑक्सीजन की आपूर्ति को सुरक्षित करने के लिए एक सार्थक पहल की शुरुआत की है। जानकारी के मुताबिक, दमन (Daman) से 80 टन लिक्विड ऑक्सीजन (Oxygen) और 4 आईएसओ क्रायोजेनिक टैंक्स (ISO cryogenic tanks) की पहली खेप मुंद्रा बंदरगाह तक रवाना कर दी गई है।

वायु मार्ग से आएंगे 6 टैंक्स

इसके अलावा यह डाइवर्सिफाइड ऑर्गेनाइजेशन लिंडे, सऊदी अरब से लाइफ-सेविंग मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन (Life-saving medical grade oxygen) के 5,000 सिलेंडर्स सुरक्षित कर रहा है। इस बीच दुबई और भारतीय वायु सेना ने दुबई से लिक्विड ऑक्सीजन (Oxygen) का परिवहन करने के लिए 12 अन्य तैयार क्रायोजेनिक टैंक्स को सुरक्षित करने के लिए ग्रुप के साथ भागीदारी की है। भारतीय वायु सेना इनमें से 6 टैंक्स को वायुमार्ग के माध्यम से भारत में स्थानांतरित कर रही है।

हर रोज भरे जा रहे हैं 1,500 सिलेंडर्स

ग्रुप गुजरात में शीघ्र वितरण के लिए अतिरिक्त ऑक्सीजन की आपूर्ति की भी व्यवस्था कर रहा है। प्रतिदिन इसकी वर्कफोर्स द्वारा 1,500 सिलेंडर्स को मेडिकल ऑक्सीजन से भरा जा रहा है, और उन्हें कच्छ जिले में जहाँ भी आवश्यकता है, वहाँ पहुँचाया जा रहा है।


Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story