×

Small Saving Schemes: स्मॉल सेविंग्स स्कीम के निवेशकों को झटका, ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं

Small Saving Schemes: स्मॉल सेविंग्स स्कीम की ब्याज दरों को लेकर हुई समीक्षा बैठक में किसी तरह की बढ़ोतरी न करने का निर्णय लिया गया है। आपको वही ब्याज दर मिलेगा, जो अभी मिल रही है।

Krishna Chaudhary
Updated on: 30 Jun 2022 4:53 PM GMT
No change in interest rates for small savings scheme investors
X

स्मॉल सेविंग्स स्कीम की ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं: photo - social media

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Small Saving Schemes: छोटी बचत की स्कीम में पैसा लगाने वालों के लिए अच्छी खबर नहीं है। स्मॉल सेविंग्स स्कीम की ब्याज दरों को लेकर हुई समीक्षा बैठक में PPF, सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana), नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (national savings certificate), सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम और किसान विकास पत्र समेत पोस्ट ऑफिस की सेविंग स्कीम की ब्याज दरों में किसी तरह की बढ़ोतरी न करने का निर्णय लिया गया है। इसका तात्पर्य ये है कि जुलाई से लेकर सितंबर तक आपको वही ब्याज दर मिलेगा, जो अभी मिल रही है।

बता दें कि अभी पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) पर 7.1 फीसदी सलाना ब्याज दर मिलता है, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) पर 6.8 फीसदी सलाना ब्याज मिल रहा है। सुकन्या समृद्धि योजना पर 7.6 फीसदी तो सीनियर सिटीजन टैक्स सेविंग स्कीम पर 7.4 फीसदी ब्याज मिल रहा है।

ब्याज दरों में कटौती का फैसला लिया वापस

केंद्र सरकार ने 1 अप्रैल 2020 को ही छोटी बचत योजनाओं पर मिलने वाले ब्याज दर में कटौती (interest rate cut) की थी। तब इनकी ब्याज दरों में 1.40 प्रतिशत की कटौती की गई थी। इसके बाद फिर बीते साल 31 मार्च 2021 को ब्याज दरों में कटौती का निर्णय लिया गया, जिसे गुरूवार को वापस ले लिया गया।

बैंक बढ़ा चुके हैं एफडी पर ब्याज दर

स्मॉल सेविंग्स स्कीम के निवेशकों को ब्याज दर में बढ़ोतरी की उम्मीद इसलिए भी थी क्योंकि रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट में 90 बेसिस प्वाइंट्स बढ़ाने के बाद देश के कई बैंकों ने एफडी पर मिलने वाली ब्याज दर बढ़ाई थी।

बता दें कि स्मॉल सेविंग्स स्कीम (Small Saving Schemes) की ब्याज दरों की हर तिमाही में समीक्षा होती है। इन योजनाओं की ब्याज दरें तय करने का फॉर्मूला 2016 श्यामला गोपीनाथ समिति ने दिया था। समिति ने सुझाव दिया था कि इन स्कीम की ब्याज दरें समान मेच्योरिटी वाले सरकारी बांड के यील्ड से 0.25-1.00% अधिक होनी चाहिए। अभी सरकारी बांड यील्ड की ब्याज दरें 7.5 प्रतिशत के करीब है।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story