×

India Electric Vehicle: भारत की इलेक्ट्रिक व्हीकल एक्सपोर्ट योजना को झटका, फोर्ड मोटर ने हाथ खींचे

India Electric Vehicle: फोर्ड कंपनी ने भारत में इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने और एक्सपोर्ट करने का इरादा त्याग दिया

Neel Mani Lal
Published on 13 May 2022 5:15 AM GMT
Ford motor
X

भारत की इलेक्ट्रिक व्हीकल एक्सपोर्ट योजना को झटका (Social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Electric Vehicle in India: अमेरिकी कार निर्माता फोर्ड की भारत वापसी की उम्मीद खत्म हो गई है क्योंकि कंपनी ने भारत में इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने और एक्सपोर्ट करने का इरादा त्याग दिया है।भारत ने अपने यहां इलेक्ट्रिक वाहन बनाने और देश को ईवी निर्यात का केंद्र बनाने की एक महत्वाकांक्षी योजना बना रखी है और फोर्ड भी इस योजना का हिस्सा था।

नया डेवलपमेंट यह है कि फोर्ड कंपनी सरकार को यह सूचित करते हुए लिख सकती है कि वह अब परफॉर्मेंस लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) योजना के तहत देश में निवेश करने का इरादा नहीं रखती है। पीएलआई योजना के तहत 20 अन्य वाहन निर्माताओं को भारी उद्योग मंत्रालय ने शॉर्टलिस्ट किया था। इन 20 कंपनियों में फोर्ड मोटर्स भी शामिल थी। उस समय कंपनी ने कहा था कि वह भारत में अपने एक संयंत्र का इस्तेमाल निर्यात के लिए इलेक्ट्रिक वाहन बनाने के लिए करेगी।

ईवी निर्माण को आगे नहीं बढ़ाने का फैसला किया

अब एक बयान में फोर्ड इंडिया ने कहा है कि - सावधानीपूर्वक समीक्षा के बाद, हमने किसी भी भारतीय संयंत्र से निर्यात के लिए ईवी निर्माण को आगे नहीं बढ़ाने का फैसला किया है। हम उत्पादन से जुड़े प्रोत्साहनों के तहत हमारे प्रस्ताव को मंजूरी देने और सहयोग के लिए सरकार के आभारी हैं।

फोर्ड मोटर कंपनी ने सितंबर 2021 में भारत में स्थानीय वाहन निर्माण को बंद करने के अपने फैसले की घोषणा की थी। कम्पनी ने भारत में अपने कामकाज को पुनर्व्यवस्थित के हिस्से के रूप में, वाहनों के निर्माण को बन्द करने का फैसला किया था और 2021 की चौथी तिमाही तक साणंद वाहन असेंबली प्लांट और 2022 की दूसरी तिमाही तक चेन्नई इंजन और वाहन असेंबली प्लांट को बंद करने की योजना बनाई थी।

कंपनी ने 2 अरब डॉलर से अधिक का घाटा सहा

फोर्ड ने और जानकारी देते हुए कहा है कि भारत में चल रहे व्यापार पुनर्गठन के हिस्से के रूप में, फोर्ड ने अपनी विनिर्माण सुविधाओं के लिए संभावित विकल्प तलाशना जारी रखा है। इसमें उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना के लिए आवेदन करना शामिल था, जिसने कंपनी को संभावित ईवी विनिर्माण आधार के रूप में संयंत्रों में से एक का उपयोग करने का पता लगाने की अनुमति दी। बयान के अनुसार, फोर्ड इंडिया की पहले से घोषित व्यापार पुनर्गठन योजना जारी है, जिसमें विनिर्माण सुविधाओं के लिए अन्य विकल्प तलाशना भी शामिल है। "हम पुनर्गठन के प्रभावों को कम करने के लिए एक समान और संतुलित योजना देने के लिए यूनियनों और अन्य हितधारकों के साथ मिलकर काम करना जारी रखते हैं।"

फोर्ड ने पिछले साल कहा था कि भारत में काफी निवेश करने के बावजूद कंपनी ने पिछले 10 वर्षों में 2 अरब डॉलर से अधिक का परिचालन घाटा सहा है और नए वाहनों की मांग पूर्वानुमान से काफी कमजोर रही है।

भारत में फोर्ड इंडिया के चेन्नई और साणंद में चार वाहन और इंजन संयंत्र हैं। कंपनी ने अन्य तीन संयंत्रों को बंद करते हुए साणंद में इंजन संयंत्र का संचालन जारी रखने का निर्णय लिया था। इसने कहा था कि वह अपने विनिर्माण संयंत्रों को थर्ड पार्टी कंपनियों को बेचने की संभावना तलाश रही है। भारत में विनिर्माण बंद करने के फोर्ड के फैसले से चेन्नई और साणंद दोनों संयंत्रों में करीब 4,000 कर्मचारियों के प्रभावित होने की आशंका थी।

फोर्ड के भारत निर्माण से बाहर निकलने के निर्णय के बाद, चेन्नई और साणंद संयंत्रों में यूनियनों ने तीसरे पक्ष द्वारा संयंत्रों को लेने की स्थिति में नौकरी की सुरक्षा की मांग की थी।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story