Top

पेट्रोल-डीजल बहुत सस्ता: आम आदमी को मिलेगी राहत, ईरान से होगा आयात

अमेरिकी प्रतिबंधों में ढील मिलते ही भारत ईरान से कच्‍चा तेल खरीदना शुरू कर देगा। इससे पेट्रोल-डीजल सस्ते हो जाएंगे।

Shreya

ShreyaPublished By Shreya

Published on 8 April 2021 5:06 PM GMT

पेट्रोल-डीजल बहुत सस्ता: आम आदमी को मिलेगी राहत, ईरान से होगा आयात
X

पेट्रोल-डीजल बहुत सस्ता: आम आदमी को मिलेगी राहत, ईरान से होगा आयात (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: आम आदमी के लिए एक बड़ी खुशखबरी सामने आ रही है। अब कुछ ही वक्त में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में तेजी से गिरावट आएगी। जैसे ही भारत ईरान से कच्चा तेल खरीदना शुरू कर देगा, वैसे ही लोगों को पेट्रोल और डीजल के लिए कम पैसे खर्च करने पड़ेंगे। अब जल्द ही जनता को बड़ी राहत मिलेगी।

इसलिए भारत ने रोक दिया था ईरान से आयात

बता दें कि अमेरिकी प्रशासन द्वारा लगाए गए पाबंदियों के बाद 2019 के मध्‍य से भारत ने ईरान से कच्‍चे तेल का आयात (Crude Oil Import) रोक दिया था। जिसके बाद भारत सऊदी अरब के अलावा कच्चे तेल के लिए कई अन्य विकल्पों पर विचार कर रही है। इसी क्रम में अमेरिकी प्रतिबंधों में ढील मिलते ही भारत ईरान से कच्‍चा तेल खरीदना शुरू कर देगा।

होंगे कई फायदे

ईरान से कच्चा तेल आते ही न केवल पेट्रोल और डीजल की कीमत (Petrol-Diesel Prices) घटेगी, बल्कि भारत को क्रूड ऑयल के अपने आयात को डायवर्सिफाई करने में मदद मिलेगी। बताते चलें कि 'ईरान परमाणु समझौते' को दोबारा पटरी पर लाने के लिए अमेरिका और दुनिया के अन्य देशों की वियना में बैठक हो रही है।

(फोटो- सोशल मीडिया)

इस मामले में भारत सरकार के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि अमेरिकी प्रतिबंध हटने के बाद देश ईरान से तेल आयात पर विचार कर सकता है। भारतीय रिफाइनरी कंपनियों की ओर से इसे लेकर तैयारियां भी शुरू कर दी गई हैं। पाबंदियां हटते ही ईरान के साथ अनुबंध किया जा सकता है। ईरान से तेल आते ही भारत को आयात स्रोत को विविध रूप देने में भी मदद मिलेगी।

ईरान का दूसरा सबसे बड़ा ग्राहक था भारत

बता दें कि वित्त वर्ष 2020-21 में इराक भारत का सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता रहा है। इसके बाद सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात का नंबर है। वहीं चौथे बपर नाइजीरिया, जबकि पांचवें पर अमेरिका का स्थान है। मालूम हो कि भारत अपनी जरूरत का 85 फीसदी से अधिक तेल आयात करता है। वहीं, ईरान एक समय में भारत ईरान का दूसरा सबसे बड़ा ग्राहक था।

ईरान से कच्चा तेल मंगवाने के कई फायदे भी भारत को मिलते हैं। जैसे कि यात्रा मार्ग छोटा होने से माल ढुलाई लागत कम लगती है और भुगतान के लिए लंबा समय मिल जाता है। अमेरिकी प्रतिबंध में छूट मिलने के बाद एक बार फिर से ईरान से आयात शुरू हो सकेगा।

Shreya

Shreya

Next Story