×

October Price Down: महंगाई से मिलेगा छुटकारा, कम होंगे सोने-चांदी और खाने वाले तेल के दाम

October Price Down: आगे आने वाले दिनों में सबसे पहले तो खाने के तेल के दामों में और सोने के दामों अच्छी खासी कमी आ सकती है।

Vidushi Mishra
Updated on: 3 Oct 2022 1:23 PM GMT
oil
X

खाने का तेल (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

New Delhi: बढ़ती महंगाई के बीच आपको सुकून देने वाली खबर सुनाने जा रहे हैं। जीं हां आगे आने वाले दिनों में सबसे पहले तो खाने के तेल के दामों में और सोने के दामों अच्छी खासी कमी आ सकती है। ये इसलिए कि केंद्र सरकार ने खाद्य तेलों, धातुओं में सोना-चांदी की आयात कीमतों में कटौती कर दी है। जिससे इसका सीधा असर इन चीजों के दामों पर पड़ेगा। साथ ही सरकार ने ये भी कहा है कि ग्लोबल मार्केट में दामों में अच्छा खासा सुधार भी देखा गया है।

बढ़ती मंहगाई के बीच इस खुशखबरी को लेकर सामने आई रिपोर्ट के अनुसार, भारत की केंद्र सरकार ने शुक्रवार को देर रात दामों के कम होने को लेकर एक बयान जारी किया था। जिसमें केंद्र सरकार ने कच्चे पाम ऑयल का बेस प्राइस 996 डॉलर प्रति टन से कम करके 937 डॉलर कर दिया है।

ऐसे में ये अनुमान लगाया जा रहा है कि पाम ऑयल के बेस प्राइस में कटौती से खाद्य तेलों के दामों में अच्छी-खासी कमी हो सकती है। जानकारी देते हुए आपको बता दें कि इसी आधार पर यह कैलकुलेशन होती है कि आयात करने वाले को कितना टैक्स देना होगा।

ये है बेस प्राइस

अब देखा जाए तो आरबीडी पाम तेल का बेस प्राइस 1,019 डॉलर से कम करके 982 डॉलर प्रति टन, आरबीडी पामोलिन का बेस प्राइस 1,035 डॉलर से घटाकर 998 डॉलर प्रति टन, कच्चे सोयाबीन तेल का बेस प्राइस 1,362 डॉलर से कम करके 1,257 डॉलर प्रति टन, सोने का बेस प्राइस 549 डॉलर प्रति 10 ग्राम से कम करके 553 प्रति 10 ग्राम और चांदी का बेस प्राइस 635 डॉलर प्रति किलो से कम करके 608 डॉलर प्रति किलो कर दिया गया है।

जानकारी देते हुए बता दें, कि भारत देश दुनिया में खाद्य तेलों और चांदी का सबसे बड़ा आयातक है, और सोने का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है। तो ऐसे में बाजार पर नजर बनाए रखने वाले जानकारों का कहना है कि बेसिक इम्पोर्ट प्राइस कम होने से सीमा शुल्क कम हो जाती है। जिसका सीधा असर चीजों के असल दामों में पड़ता है।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story