Top

अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला का कोरोना से निधन, CM ने जताया शोक

पूर्व सांसद और कांग्रेस नेत्री करुणा शुक्ला का कोरोना के चलते निधन हो गया। वह 70 साल की थीं।

Newstrack

NewstrackNewstrack Network NewstrackShreyaPublished By Shreya

Published on 27 April 2021 4:08 AM GMT

करुणा शुक्ला का कोरोना से निधन
X

 करुणा शुक्ला (फोटो साभार- ट्विटर)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रायपुर: कोरोना वायरस (Corona Virus) का प्रकोप तेजी से देश में बढ़ रहा है। कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) नाम के इस काल ने अब तक कई दिग्गजों की जिंदगियां छीन ली हैं। अब इस सूची में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) की भतीजी करुणा शुक्ला (Karuna Shukla) का नाम भी शामिल हो गया है।

पूर्व सांसद और कांग्रेस नेत्री करुणा शुक्ला का कोरोना के चलते निधन हो गया। वह 70 साल की थीं। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्हें छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर के रामकृष्ण केयर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनका इलाज चल रहा था। उन्होंने इलाज के दौरान 26-27 अप्रैल की मध्य रात्री में अंतिम सांस ली।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दी श्रद्धांजलि

वहीं, करुणा शुक्ला के निधन पर सूबे के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel), स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव समेत अन्य नेताओं ने शोक प्रकट करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। सीएम भूपेश बघेल ने ट्वीट करते हुए लिखा कि

मेरी करुणा चाची यानी करुणा शुक्ला जी नहीं रहीं। निष्ठुर कोरोना ने उन्हें भी लील लिया। राजनीति से इतर उनसे बहुत आत्मीय पारिवारिक रिश्ते रहे और उनका सतत आशीर्वाद मुझे मिलता रहा। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें और हम सबको उनका विछोह सहने की शक्ति।

2014 में कांग्रेस का थामा दामन

आपको बता दें कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से टिकट नहीं मिलने की वजह से करुणा शुक्ला ने ऐन वक्त पर कांग्रेस का दामन थाम लिया था। तब से वह कांग्रेस में ही थीं। वहीं, 2018 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने पूर्व सीएम रमन सिंह को कड़ा मुकाबला दिया था। हालांकि इस चुनाव में कांग्रेस नेत्री को हार का सामना करना पड़ा था। भाजपा नेता के तौर पर उन्होंने साल 2004 में जांजगीर से लोकसभा चुनाव जीता था।

Shreya

Shreya

Next Story