Top

छत्तीसगढ़ में लॉकडाउनः 18 जिले बंद, कोरोना रोकने के लिए लगी ये पाबंदी

देशभर में कोरोना वायरस एक बार फिर कहर बन कर लौटा है। इसी के साथ छत्तीसगढ़ में भी कोरोना संक्रमित के मामले सामने आने लगे है। जिस कारण 28 जिलों में से 18 में लॉकडाउन लगाया गया है।

Monika

MonikaPublished By Monika

Published on 12 April 2021 6:43 AM GMT

छत्तीसगढ़ में लॉकडाउनः 18 जिले बंद, कोरोना रोकने के लिए लगी ये पाबंदी
X

लॉकडाउन (फाइल फोटो )

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

छत्तीसगढ़: देशभर में कोरोना वायरस एक बार फिर कहर बनकर लौटा है। जिसके चलते कई राज्रों में नाईट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है। इसी के साथ अब छत्तीसगढ़ में भी कोरोना के मामले सामने आने लगे है। जिस कारण 28 जिलों में से 18 में लॉकडाउन लगाया गया है।

बता दें, रविवार को बिलासुपर में 14 अप्रैल-21 अप्रैल, सरगुजा में 13 अप्रैल- 23 अप्रैल, बलरामपुर में 14 अप्रैल शाम छह बजे से 25 अप्रैल तक, मुंगेली में 14 अप्रैल से 21 अप्रैल और जांजगीर-चांपा 13 अप्रैल शाम छह बजे से 23 अप्रैल तक इन जिलों में लॉकडाउन की घोषणा की गई है। जिसके साथ ही कई प्रतिबंध भी लगा रहेगा । वही कोरबा में 12 यानी आज से पूर्ण लॉकडाउन लगेगा । इस दौरान सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही शुरू रहेंगी।

10,521 नए कोरोना मरीज़

रविवार को छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के 10,521 नए केस सामने आए। जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,43,297 हो गई । वही 122 लोगों की कोरोना से मौत गई है । जो अब संख्या बढ़कर 4,899 हो गई. वही अभी 90,277 मरीजों के इलाज चल रहे हैं।

कोरोना वायरस के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए कई जिलों में लॉकडाउन लगाने की घोषणा कर दी गई, इस लिस्ट में अब धमतरी भी जुड़ गया है। आज से 15 दिन के लिए लॉकडाउन लगाया गया है। सुबह 8 से 10 बजे तक जरूरी सामान के लिए दुकानें खुली रहेंगी। साथ ही दोपहर 11 से 3 तक बैंक खोलने का फरमान जारी किया गया है।

छत्तीसगढ़ में लगातार बढ़ रहे कोरोना केस को देखते हुए पहले सरकार ने 4 जिलों में लॉकडाउन लगाया । यहाँ अब भी लॉकडाउन लगा हुआ है। जिसके बाद रविवार को तीन और जिलों में लॉकडाउन का ऐलान किया गया है।

Monika

Monika

Next Story